नोटबंदी पर सबसे बड़ा खुलासा

0

नोटबंदी को लेकर एक बार फिर भाजपा निशाने पर आ गई है। एक आरटीआई के हवाले से आरोप है कि नोटबंदी के दौरान अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक में नोटबंदी के दौरान 5 दिनों  में 745 करोड़ रुपए जमा किए गए थे। इस बैंक के डायरेक्टर अमित शाह थे। इस बैंक के बाद सबसे ज्यादा पुराने नोट राजकोट के जिला सहकारी बैंक में जमा किए गए।

राहुल का हमला

इस मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अमित शाह पर तीखा ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा कि अहमदाबाद जिला को-ऑपरेटिव बैंक के डायरेक्टर, अमित शाह जी बधाई हो। आपके बैंक ने पुराने नोटों को बदलकर नया करने में बाजी मार ली है। पांच दिनों में 750 करोड़। उन्होंने आगे लिखा कि उन लाखों भारतीयों का आपको सलाम, जिनकी ज़िंदगी नोटबंदी की वजह से बर्बाद हो गई।

कांग्रेस ने उठाए सवाल

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रश्न किया कि यह पैसा किसका है, यह जमा कैसे हुआ? यह गड़बड़ झाला है क्या?, क्या यह काला धन था, जिसे सफेद किया जा रहा था। क्या मोदीजी और अमित शाहजी और देश के वित्तमंत्री अब एक निष्पक्ष जांच के लिए तैयार हैं।

नाबार्ड ने दी सफाई

मामले पर कोऑपरेटिव बैंकों की निगरानी करने वाली संस्था ‘नाबार्ड’ का कहना है कि अहमदाबाद जिला सहकारिता बैंक ने रिजर्व बैंक गाइडलाइन के मुताबिक केवाईसी का पालन किया है। नोटबंदी के दौरान बैंक ने नोट बदलने की प्रक्रिया का पालन किया। संस्था ने कहा कि नोटबंदी के दौरान गुजरात में महाराष्ट्र और केरल की तुलना में कम पैसे जमा हुए हैं।

Share.