website counter widget

पाकिस्तान न जाने की सज़ा भुगत रहे हैं मुसलमान

0

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के वरिष्ठ नेता और रामपुर सांसद आजम खान (Azam Khan) पहले से ही अपने विवादित बयानों के कारण चर्चा में हैं और अब उन्होंने देश में हो रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर एक विवादित (Azam Khan Controversial Statements ) बयान दिया है। इस बयान के बाद उन पर फिर सवाल उठाने लगे हैं। मॉब लिंचिंग की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वज 1947 में पाकिस्तान क्यों नहीं गए? अब जो होगा, उसे सहना होगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इसके लिए मौलाना आजाद, जवाहर लाल नेहरू, सरदार पटेल और बापू से सवाल पूछा जाना चाहिए क्योंकि इनके ही कहने पर मुसलमान हिंदुस्तान में रुक गए।

डीएम से माया के जूते साफ कराने वाला आज़म का बयान अब पड़ा भारी

पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान

आज़म खान ने कहा कि इन घटनाओं में अधिकतर मुसलमान ही शिकार बन रहा है। मुसलमान 1947 के बाद भी सजा काट रहे हैं। अगर मुसलमान पाकिस्तान चले जाते तो उन्हें यह सजा नहीं मिलती। मुसलमान यहां हैं तो सजा भुगतेंगे। सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने आगे कहा कि इस सरकार ने मुस्लिम कार्ड खेला, लेकिन ये मुसलमानों को आगे नहीं बढ़ने देना चाहती है। रामपुर में 70 प्रतिशत लोग मुस्लिम हैं और बाकी हिंदू। योगी सरकार ने मुस्लिम लोगों का पानी का कनेक्शन काट दिए।  उन्होंने कहा कि क्या हिंदु धर्म में मुसलमानों को पानी देना पाप है?

Mob Lynching In Neemuch : मोर के शिकार के शक में भीड़ का नरसंहार

हर तरफ दुश्मन ही दुश्मन

भू-माफिया घोषित के बारे में आज़म खान ने कहा कि जिधर देखता हूं दुश्मन ही दुश्मन हैं. लोकसभा जीत ली है ये मेरा खता है। जिलाधिकारी को जिस मिशन के लिए भेजा गया था, वो उस मिशन में फेल हो गए। चुनाव के दौरान मुसलमानों को घरों में घुसकर मारा गया। 77 हजार रेड कार्ड इश्यू किए गए। चुनाव के दौरान ही मेरे ऊपर 15-16 मुकदमे दर्ज किए गए। जाहिर है ये सब इसलिए हो रहा था क्योंकि मेरा मुकाबला बड़े लोगों के साथ था।

बिहार में फिर मॉब लिंचिंग : पति के सामने  भीड़ ने फाड़ दिए कपड़े, की मारपीट

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.