Atal Bihari Vajpayee First Death Anniversary : फिर याद आए अटल

0

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि (Atal Bihari Vajpayee Death Anniversary 2019) है। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह जैसे कई दिग्गज नेता स्मृति स्थल ‘सदैव अटल’ पर पहुँचकर अटलजी को श्रद्धांजलि अर्पित की। भारत रत्न और देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) का 16 अगस्त 2018 को 93 वर्ष की आयु में निधन हो गया था। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने उनकी आस्तियों को 100 नदियों में प्रवाहित किया था। आज उन्हें सोशल मीडिया के जरिये भी कई लोग याद कर रहे हैं।

अटलजी विशेष : हमेशा यादों में अटल रहेंगे

Atal Bihari Vajpayee Death Anniversary 2019:

दिल्ली स्थित ‘सदैव अटल’ पर अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि (Atal Bihari Vajpayee First Death Anniversary) के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। जिसमें भारतीय जनता पार्टी के कई नेता शामिल हुए हैं। वहीं वाजपेयीजी की बेटी नमिता कौल भट्टाचार्य और नातिन निहारिका ने भी स्मारक स्थल पर पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की।

अटल बिहारी वाजपेयी की टॉप 5 कविताएं

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी ट्विटर के जरिये अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

अटलबिहारी वाजपेयी की टॉप 10 किताबें!

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को देश के सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ से 2014 में सम्मानित किया गया था। अटलजी पहली बार 1996 में प्रधानमंत्री बने और उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही चल पाई थी। 1998 में वह दूसरी बार प्रधानमंत्री बने, तब उनकी सरकार 13 महीने तक चली थी। इसके बाद 1999 में तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 सालों का कार्यकाल पूरा किया। 2004 के बाद तबीयत खराब होने की वजह से उन्होंने राजनीति से दूरी बना ली थी।

अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने प्रधानमंत्री कार्यकाल में सड़कों के माध्‍यम से देश को एक सूत्र में बांधने का ऐतिहासिक कदम उठाया था, जिसका लाभ आज सबको मिल रहा है। 6 से 14 साल के बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने का अभियान अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में ही शुरू किया गया। मई 1998 में भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया था। ये 1974 के बाद भारत का पहला परमाणु परीक्षण था।

Share.