website counter widget

क्या महाराष्ट्र के हालात फिर दे रहे हैं चुनाव के संकेत ?

0

महाराष्ट्र (Maharashtra ) की राजनीति में सब उथल-पुथल हो गया है। शिवसेना (Shiv Sena) ने भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party )के साथ  हुए गठबंधन को भुला दिया और अब नए दल के साथ नई सरकार बनाने के लिए रणनीति तैयार कर रही है। वहीं इन सब के बीच बने हालात इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि प्रदेश में जल्द ही फिर से विधानसभा चुनाव (Assembly elections ) होने वाले हैं। ऐसा इसीलिए क्योंकि शिवसेना को कांग्रेस का साथ मिलना अभी भी बाकी है। वहीं कांग्रेस के कई नेता  भी इस गठबंधन के खिलाफ हैं।

क्या मोदी के आदेश पर सनी गए पाकिस्तान

2020 में हो सकता है फिर से विधानसभा चुनाव

कांग्रेस नेता संजय निरुपम (Congress leader Sanjay Nirupam ) ने सरकार बनाने की माथापच्ची पर कहा है कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सरकार बनाता है और कैसे? लेकिन महाराष्ट्र में राजनीतिक अस्थिरता से अब इनकार नहीं किया जा सकता है। जल्दी चुनाव के लिए तैयार हो जाओ। यह 2020 में हो सकता है। क्या हम शिवसेना के साथ गठबंधन करके चुनाव में जा सकते हैं?

अयोध्या की बात, सिंधिया बीजेपी के साथ!

संजय निरुपम ने Congress-NCP को किया आगाह

बीजेपी ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने पर असमर्थता जताने के बाद राज्यपाल से सरकार न बनाने की बात कही, जिसके बाद राज्यपाल ने शिवसेना को सरकार बनाने का मौका दिया। इसीके बाद से शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच गठबंधन की बातें की जा रही है। एनसीपी ने शिवसेना का साथ दे दिया है, लेकिन कांग्रेस अभी भी  इस पर मंथन कर रही है। इस बीच संजय निरुपम ने अपनी पार्टी कांग्रेस और सहयोगी पार्टी एनसीपी को आगाह करते हुए कहा क्या हो गया है? कोई कांग्रेसी नेता शिवसेना को समर्थन के बारे में सोच भी कैसे सकता है? कांग्रेस को शिवसेना के नाटक में नहीं उलझना चाहिए। यह झूठा है। यह सत्ता में ज्यादा साझेदारी के लिए उनका अस्थायी झगड़ा है। मेरी समझ के मुताबिक शिवसेना कभी भी भाजपा के साए से बाहर नहीं आएगी।

बीजेपी दे जवाब सिद्धू देशद्रोही तो सनी क्या?

– Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.