आर्टिकल 370 पर ट्रंप को ओवैसी की फटकार!

0

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने (Article 370 removed from Jammu and Kashmir) के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच युद्ध (India Pakistan War ) जैसी स्थिति बनी हुई है। पाकिस्तान ने इस मुद्दे पर अमेरिका को सबसे पहले बीच में लाया था। इसके बाद अमेरिका ने मध्यस्थता की पेशकश की थी, लेकिन भारत के इंकार के बाद यह मामला ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाया था। अब फिर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मध्यस्थता का राग अलापना शुरू कर दिया है, जिसके बाद एमआईएम प्रमुख ओवैसी ने ट्रंप पर सीधा हमला बोल दिया।

370 के बाद आर्थिक मंदी ख़त्म करने के लिए मोदी का बड़ा ऐलान

क्या अमेरिका चौधरी है ?

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर मुद्दे पर कहा कि कश्मीर का मामला बेहद जटिल है। भारत-पाकिस्तान के बीच हालात विस्फोटक हैं। ट्रंप के इस बयान के बाद एमआईएम प्रमुख ओवैसी आग बबूला हो गए और उन्होंने ने ट्रंप पर नाराजगी जताते हुए कहा कि वह बेगानी शादी में दीवाने हो रहे हैं। कश्मीर मसले पर ट्रंप मध्यस्थता क्यों करेंगे? क्या अमेरिका चौधरी है, जो इस मसले पर मध्यस्थता करेगा। हम शुरुआत से ही कह रहे हैं कि कश्मीर एक द्विपक्षीय मामला है। भारत का कश्मीर मामले पर हमेशा ही साफ रुख रहा है। इसके बावजूद पीएम मोदी को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप को कॉल करने की क्या जरूरत थी और उन्होंने इसकी शिकायत क्यों की।

पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध में बांग्लादेश भारत के साथ

पीएम मोदी और ट्रंप कि फोन पर बात

अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर शुरू हुए बवाल के बाद करीब आधे घंटे तक फोन पर बात की। मोदी ने बातचीत के दौरान पाकिस्तानी नेताओं द्वारा भारत विरोधी हिंसा के लिए उग्र बयानबाजी और उकसावे’ का मुद्दा उठाया। वहीं इसके बाद ट्रंप ने ट्वीट भी किया था, “अपने दो अच्छे दोस्तों, भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से व्यापार, रणनीतिक साझेदारी और सबसे अधिक महत्वपूर्ण भारत और पाकिस्तान के कश्मीर में तनाव कम करने को लेकर बात की। गंभीर स्थिति, लेकिन अच्छी बातचीत..”

मध्यप्रदेश में फिर भाजपा सरकार!

Share.