website counter widget

केंद्रीय मंत्री कर रहे दिल्ली के पानी के साथ साजिश : केजरीवाल

0

दिल्ली के प्रदूषण (Delhi pollution ) के कारण त्राहि-त्राहि हो रहा है वहीं जब ये पता चला कि वहाँ कि हवा ही नहीं बल्कि पानी भी सबसे दूषित है तो फिर हंगामा मच गया। भारतीय मानक ब्यूरो (Indian Standards Bureau) के गुणवत्ता परीक्षण में दिल्ली (Delhi) के पानी को सबसे खराब बताया गया है। इसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal) ने मोदी सरकार (Modi government ) पर निशाना साधा और  दिल्ली को बदनाम करने का आरोप लगाया।

क्या महाराष्ट्र में सत्ता के लिए BJP कर रही NCP का गुणगान ?

गंदी राजनीति करने वाले केंद्रीय मंत्री

दिल्ली के मुख्यमंत्री  अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) का कहना है कि केंद्रीय मंत्री दिल्ली के पानी को जहरीला बताकर लोगों को डरा रहे हैं। इस साल जनवरी से सितंबर के बीच दिल्ली जल बोर्ड ने 1.55 लाख पानी (Water) के नमूने लिए, जिसमें से सिर्फ 1.5 फीसदी परीक्षण में विफल रहे। शहर के प्रत्येक वार्ड से सार्वजनिक रूप से औचक तरीके से पानी के पांच नमूने लिए जाएंगे। वह यह नहीं बता रहे हैं कि पानी के 11 नमूने कहां से लिए गए। लेकिन हम पारदर्शी तरीके से हर वार्ड से यादृच्छिक नमूने लेंगे और उसका परीक्षण करेंगे और तब केंद्र सरकार के मंत्रियों कि सच्चाई सामने आएगी।

भारत कि सबसे खूबसूरत सांसद नुसरत जहाँ आखिर क्यों है ICU में?

केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान (Union Minister of Consumer Affairs Ram Vilas Paswan ) ने भारतीय मानक ब्यूरो (Bureau of Indian Standards report ) की रिपोर्ट जारी कि थी, जिसमें दिल्ली के पानी को सबसे प्रदूषित बताया गया था। इसके बाद केंद्रीय मंत्री हर्षवर्द्धन (Union Minister Harshvardhan ) ने सीएम केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा था कि केजरीवाल मुफ्त जलापूर्ति के नाम लोगों को जहर दे रहे हैं और मांग की कि उन्हें मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के अनुसार, प्रति 10 हजार की आबादी पर एक नमूने का परीक्षण किया जाना चाहिए।

राज्यसभा के 250वें सत्र में पीएम मोदी का भाषण

       – Ranjita Pathare 

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.