जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान का आतंकी हमला!

0

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने (Article 370 removed from Jammu and Kashmir) का मुद्दा अभी भी शांत नहीं हुआ है। आर्टिकल हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर से अब धारा 144 भी हटा दी गई है, कहा जा रहा है कि धीरे-धीरे घाटी में जीवन पटरी पर आ रहा है, लेकिन अभी भी पाकिस्तान के नापाक इरादों में कमी नहीं आई है। जब पाकिस्तान को किसी और देश से समर्थन नहीं मिल रहा है तो वह अब आतंकी हमला (Jammu And Kashmir Terror Attack Alert) करवाने की साजिश रच रहा है।

भारत पर हमले के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistan Prime Minister Imran Khan) पहले भी खुली चेतावनी दे चुके हैं।

VIDEO : सड़क पर घायल को देख पूर्व सीएम शिवराज का ऐसा रहा रिएक्शन

भारत पर हमला करवाएगा पाकिस्तान

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने (Jammu And Kashmir Terror Attack Alert) के बाद से ही पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है। उसकी बौखलाहट कम ही नहीं हो रही है। वह लगातार भारत के खिलाफ आतंकी  युद्ध (India Pakistan War) छेड़ने की धमकी दे रहा है। वहीं खुफिया एजेंसियों का कहना है कि किसी भी वक्त कोई भी बड़ी घटना हो सकती है। खुफिया सूत्रों ने भारतीय सेना, वायुसेना और जम्‍मू कश्‍मीर में मौजूद तमाम सुरक्षाबलों को हाई अलर्ट पर रहने को कहा है।

कपिल मिश्रा ने भाजपा ज्वाइन करने का किया ऐलान

हाई अलर्ट पर सेना (Jammu And Kashmir Terror Attack Alert)

पाकिस्तान का रवैया और कश्मीर के हालात देखते हुए तीनों सेनाओं को हाई अलर्ट पर रखा गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि पाकिस्तान सरकार के साथ मिलकर आतंकी संगठन बड़े आतंकी हमले को भी अंजाम दे सकते हैं। घाटी में धीरे-धीरे माहौल सामान्य हो रहा है।

UNSC में पाकिस्तान को तगड़ा झटका

लगातार जलील हो रहा पाकिस्तान

पाकिस्तान द्वारा भारत पर हमला करवाने के लिए का एक और कारण यह भी है कि भारत को कश्मीर के मुद्दे पर कई देशों का साथ मिला है वहीं पाकिस्तान के साथ केवल चीन आया है। यह मुद्दा यूएनएससी में उठाया गया जहां पाकिस्तान को मुंह कि खानी पड़ी। यूएन में रूस के स्‍थायी प्रतिनिधि देमित्री पोलिंस्‍की ने कहा कि कश्‍मीर का मुद्दा हल करने में यूएनएससी की कोई भूमिका नहीं हो सकती। ये मुद्दा अगर सुलझेगा तो भारत और पाकिस्‍तान की आपसी बातचीत के साथ ही सुलझेगा।

रूस का इस मसले पर हमेशा से ही यही रुख रहा है। हमारा इस मुद्दे पर कोई छिपा हुआ एजेंडा नहीं है। दोनों देशों से हमारे अच्‍छे संबंध हैं। ऐसे में हम चाहते हैं कि ये मुद्दा यही दोनों देश बातचीत से सुलझाएं। वहीं चीन ने कहा कि कश्‍मीर में अनुच्‍छेद 370 हटाना भारत की एकतरफा कार्यवाही है। कई देशों ने इसे भारत का आंतरिक मुद्दा बताया।

 

Share.