अनुराधा पौडवाल को 45 साल की महिला ने बताया अपनी मां

0

हिंदी सिनेमा जगत की  67 वर्षीय मशहूर गायिका अनुराधा पौडवाल (Singer Anuradha Paudwal) को कौन नहीं जानता जब भी संगीत की बात आती है तो उनका नाम बड़ी अदब से लिया जाता है। एक समय दौर था जब हर हिंदी फिल्म में अनुरधा पौडवाल का गाया गाना हुआ करता था लेकिन अब उन्होंने संगीत जगता से थोड़ा दूरी बना ली है। लेकिन उसके बाद भी इन दिनों वो भारी सुर्ख़ियों में है आपको बता दे की उनके बारे में एक 45 वर्षीय महिला ने चौकाने वाला खुलासा किया है. आपको बता दें की केरल की रहने वाली एक महिला ने अनुराधा पौडवाल को अपनी जैविक मां होने का दावा किया है। सिर्फ दावा ही नहीं किया 45 वर्षीय करमाला मॉडेक्स ने तिरुवनंतपुरम की पारिवारिक अदालत में उनके खिलाफ केस दायर कर 50 करोड़ रुपये के हर्जाने की मांग भी की है।

Indian Idol 11 : सनी हिंदुस्तानी या सलमान अली कौन मारेगा बाजी

https://www.youtube.com/watch?v=0WZTMuvPBv8

दावा करने वाली महिला करमाला (Karamala) ने बताया की उनका जन्म साल 1974 में हुआ था। जब वह महज चार दिन की थीं, तभी अनुराधा ने उन्हें पोंनाचन और अगनेस को सौंप दिया था। दरअसल, अनुराधा (Singer Anuradha Paudwal) उस समय प्लेबैक गायिका के रूप में अपना करियर संवारने में मशगूल थीं। रिकॉर्डिंग की व्यस्तता के बीच वह बच्चे की जिम्मेदारी उठाने को तैयार नहीं थीं।

Indian Idol 11 : सलमान-सनी की जोड़ी मचाएगी धूम

करमाला (Karamala) ने आगे बताया की करीब पांच साल पहले मृत्यु शैया पर लेटे मेरे पालक पिता पोंनाचन ने अनुराधा पौडवाल (Singer Anuradha Paudwal) के मेरी जैविक मां होने की सच्चाई से मुझे अवगत कराया था। उन्होंने  यह भी बताया की वह अनुराधा के करीबी मित्र थे। गायकी की दुनिया में पैर जमाने में व्यस्त अनुराध ने करमाला को तब उनकी गोद में सौंपा था, जब वह महज चार दिन की थीं।  तीन बच्चों की मां करमाला ने कहा कि पिता के  मुंह से सच्चाई सुनने के बाद उन्होंने अनुराधा से कई बार फोन पर संपर्क करने की कोशिश की। लेकिन सामने से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। कुछ समय बाद उनका नंबर ब्लॉक कर दिया गया। करमाला के वकील अनिल प्रसाद ने कहा कि करमाला जिस बचपन और जिंदगी की हकदार थीं, उन्हें उससे वंचित रखा गया। अगर अनुराधा हमारे दावे को खारिज करती हैं तो हम अदालत से डीएनए टेस्ट कराने की मांग करेंगे।

आपको बता दें की अनुराधा (Singer Anuradha Paudwal) ने 1973 में आई अमिताभ (Amitabh Bacchan) और जया (Jaya Bacchan) की फिल्म ‘अभिमान (Abhimaan)’ से अपना करियर शुरू किया था जिसमे उन्होने एक श्लोक गीत गया था। एक समय लगभग हर फिल्म में अनुराधा का गाना होता था। लेकिन अब लंबे समय से गायन से दूर हैं। आखिरी बार उन्होंने 2006 में आई फिल्म ‘जाने होगा क्या’ में गाने गाए थे। अनुराधा ने कभी शास्त्रीय संगीत का प्रशिक्षण नही लिया, ये कहते हुए कि उन्होने कई बार कोशिश की पर बात नही बनी। उन्होने लताजी को सुनते सुनते और खुद घंटो अभ्यास करते करते ही अपने सुर बनाए। लता मंगेशकर अनुराधा पौडवाल के लिए भगवान से कम नहीं है, क्योंकि वह अपनी सभी सफलताओं का श्रेय लता जी को ही देती हैं।  अनुराधा जी ने , नज़र के सामने, दिल है के मानता नहीं, धक धक करने लगा जैसे कई गीत हाय है जो आज लोगों की जुबान में चढ़े हुए है।

Indian Idol 11: फूट-फूटकर रो पड़ीं नेहा कक्कड़

-Mradul tripathi

Share.