#AmritaPritam : गूगल ने डूडल बनाकर अमृता प्रीतम को किया याद

0

आज गूगल ने डूडल बनाकर महान साहित्यकार अमृता प्रीतम (Amrita Pritam 100th Birthday ) को याद किया है। इसके बाद से कई लोग जो उन्हें नहीं जानते, उनके मन में यह सवाल उठ रहा है कि आखिर ये कौन हैं, जिन्हें गूगल ने याद किया है। अमृता प्रीतम भारत की महान साहित्यकार, जिन्होंने अपने जीवन में सौ से ज्यादा पुस्तकें लिखीं जिनका कई भाषाओं में अनुवाद भी किया गया। भारतीय साहित्य जगत में अमृता प्रीतम एक ऐसा नाम है, जिन्हें  पढ़ना एक अद्‌भुत एहसास है।

Google Doodle : डूडल से किया नारी का सम्मान

31 अगस्त साल 1919 को पंजाब के गुजरांवाला में जन्मी अमृता प्रीतम (Amrita Pritam 100th Birthday ) का बचपन लाहौर की गलियों में बीता। उन्हें बचपन से ही लिखने का शौक था। उन्होने समाज कि सभी बेड़ियों को तोड़कर खुली हवा में सांस ली। उस समय जब महिलाएं अपने विचार भी किसी के सामने नहीं पाती थी, जब लड़कियों को पर्दे में रखा जाता था, उस समय आजाद ख्यालों वालीं अमृता प्रीतम पंजाब (Punjab) की पहली कवियत्री थी।

Steve Irwin Birth Anniversary 2019 : गूगल ने डूडल बनाकर किया सम्मान

उनकी रचनाएँ जीवंत होती थी। उन्होने अपनी रचनाओं में ना सिर्फ स्त्री मन को अभिव्यक्ति दी बल्कि भारत-पाकिस्तान विभाजन के दर्द को भी बखूबी उकेरा। 86 वर्ष की उम्र में उनका निधन 31 अक्तूबर 2005 को हुआ था। उनके उपन्यास में पांच बरस लंबी सड़क, पिंजर, अदालत, कोरे कागज़, उन्चास दिन, सागर और सीपियां प्रमुख हैं। अमृता (Amrita Pritam 100th Birthday ) की कविताएं प्रेम में पगी हुई हैं। उन्हें 1956 में साहित्य अकादमी पुस्कार से नवाजा गया था। इसके बाद 1969 में पद्मश्री दिया गया और 1982 में साहित्य का सर्वोच्च पुरस्कार ज्ञानपीठ पुरस्कार ‘कागज़ ते कैनवस’ के लिए दिया गया । ये सिलसिला यहीं नहीं रुका, इसके बाद उन्हें 2004 में देश के दूसरा सबसे बड़े पुरस्कार पद्मविभूषण से सम्मानित किया गया।

Olga LadyzhenskayaBirthday 2019 : ओल्गा लैडिज़ेनस्काया का डूडल बनाकर सम्मान

   – रंजिता पठारे

Share.