अमेरिका ने तैयार की Coronavirus की दवा, आज से ट्रायल शुरू

0

पूरी दुनिया इस वक़्त Coronavirus की चपेट में हैं। Corona को विश्व स्वास्थ्य संगठन (America Prepares Coronavirus Vaccine) ने महामारी घोषित कर दिया है। भारत भी इससे अछूता नहीं है और देश में अब तक इस वायरस (Corona Outbreak) के 114 मामले सामने आ चुके हैं और इससे दो लोगों की मौत भी हो चुकी है। चीन में पनपे इस जानलेवा वायरस से अभी तक दुनिया के 146 देश प्रभावित हो चुके हैं और मरने वालों का आंकड़ा 6 हजार पार कर चुका है। वहीं दुनिया भर में इस वायरस (Coronavirus Update) से 1,70,000 से भी ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। हालांकि जिस तेजी से यह वायरस दुनिया के तमाम देशों को अपनी चपेट में ले रहा है, उसी गति से दुनिया भर के वैज्ञानिक इसके इलाज की खोज में जुटे हुए हैं। इसी बीच अमेरिका में तैयार की वैक्सीन का आज से ट्रायल शुरू किया गया है। एक सरकार अधिकारी ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा, “कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैज्ञानिक ​​परीक्षण में पहले मरीज को आज प्रायोगिक खुराक दी जाएगी।” कोरोना वायरस की इस वेक्सीन (America Prepares Coronavirus Vaccine) के ट्रायल को आर्थिक सहायता नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (National Institutes of Health) प्रदान कर रहा है। यह ट्रायल सिएटल में ‘कैसर परमानेंट वाशिंगटन हेल्थ रिसर्च इंस्टीट्यूट’ में किया जा रहा है।

जाने देश के किन राज्यों में Coronavirus के कितने मामले

गौरतलब है कि इस वेक्सीन (America Prepares Coronavirus Vaccine) के ट्रायल की सार्वजनिक रूप से घोषणा नहीं की गई है। इस मामले में सार्वजानिक स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि किसी भी वैक्सीन मान्यता मिलने में 1 साल से लेकर 18 माह का समय लगता है। इस वैक्सीन को एनआईएच (NIH) और मॉडर्न इंक ने मिलकर तैयार किया है। इस वैक्सीन (Coronavirus havoc)  का ट्रायल 45 साल के युवा स्वास्थ स्वयंसेवकों को विभिन्न खुराक देकर किया जाना है। वहीं जिन्हें भी वैक्सीन दी जाएगी उन्हें डॉक्टर्स की विशेष निगरानी में रखा जायगा और परखा जाएगा कि इस टीके से किसी भी तरह के कोई चिंताजनक दुष्प्रभाव तो सामने नहीं आते? यह ट्रायल सफल हो जाने के बाद बड़े स्तर पर इस वैक्सीन का परीक्षण किया जाएगा। अमेरिका पहला ऐसा देश नहीं है जो इस वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन तैयार कर रहा है बल्कि दुनिया के तमाम देश लगातार इस वायरस का इलाज खोज रहे हैं। चूंकि यह वायरस (Coronavirus from China) बेहद तेजी से दुनिया में फ़ैल रहा है और लोगों की जान जा रही है, ऐसे में दुनिया की कोई भी फार्मा कंपनी जो सबसे पहले इस वायरस की वैक्सीन तैयार करेगी उसकी उतनी ही तगड़ी कमाई भी होगी। इसी वजह से फार्मा कम्पनियां इसकी वैक्सीन तैयार करने में दिन-रात जुटी हुई हैं।

Coronavirus की वजह से निवेशकों के डूबे 11.42 लाख करोड़ रुपए

हालांकि अमेरिका की यह वैक्सीन (America Prepares Coronavirus Vaccine) कितनी सफल रहती है यह ट्रायल के बाद ही पता चल पाएगा। फिलहाल इस ट्रायल की खबर से दुनिया भर के लोगों को एक उम्मीद जगी है। बता दें कि दुनियाभर की सरकार अपने-अपने नागरिकों को लगातार जागरूक करने का कार्य कर रही है क्योंकि जानकारों का मानना है कि इस वायरस (Coronavirus truth) का संक्रमण फैलने से रोककर ही इस समस्या से निपटा जा सकता है। चीन में इस वायरस से मरने वालों की संख्या 3200 से भी ज्यादा हो चुकी है। चीन के बाद इस वायरस से सबसे ज्यादा इटली प्रभावित हुआ है और वहां इससे अब तक 1441 मौतें हो चुकी हैं। इस वायरस ने जिन देशों को अपनी चपेट में लिया है उनमें थाईलैंड, ईरान, इटली, जापान, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, संयुक्त अरब अमीरात और भारत जैसे देश शामिल हैं।

देश की राजधानी दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने आज यानी 16 मार्च को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 31 मार्च तक के लिए सभी पार्कों को भी बंद करने का आदेश जारी किया। (America Prepares Coronavirus Vaccine) मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ‘संक्रामक बीमारी एक्ट 1897’ के तहत किसी भी जगह एक साथ 50 लोगों के जुटने पर पाबंदी लगा दी है। बता दें कि शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन कानून यानी CAA के विरोध को लेकर पिछले 90 दिनों से धरना प्रदर्शन जारी है। ऐसे में केजरीवाल का कहना है कि यह पाबंदी प्रदर्शनों पर भी रहेगी। आगामी 31 मार्च तक कोई भी सामजिक, धार्मिक या फिर सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे और न ही किसी राजनीतिक कार्यक्रम की बैठक करने की अनुमति दी जाएगी। हालांकि सीएम केजरीवाल (AAP Chief Arvind Kejriwal) ने शादी समारोह को इससे छूट दी है लेकिन इसके साथ ही उन्होंने अपील की है कि यदि हो सके तो शादियों को कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दें। शाहीन बाग़ प्रदर्शन के लिए केजरीवाल ने कहा है कि यदि 50 से ज़्यादा लोग किस स्थल पर होंगे तो उनके ख़िलाफ़ संक्रामक बीमारी एक्ट 1897 के तहत उस इलाक़े के DM (उपायुक्त) और एसडीएम (SDM) कार्रवाई करेंगे।

Coronavirus की दहशत के बीच Anand Mahindra ने साझा किया Tik Tok Video

Prabhat jain

Share.