website counter widget

Amarnath Yatra : दर्शनार्थियों के लिए एक बुरी खबर

0

शिवजी के पावन धाम अमरनाथ (Amarnath Yatra Suspended ) में लोग हर साल बड़ी तादाद में बाबा बर्फानी ( baba barfani) के दर्शन करने के लिए आते हैं |  इस बार भी प्राकृतिक बर्फ से बाबा बर्फानी का शिवलिंग बनकर भक्तों को दर्शन देने के लिए तैयार हैं | शिवलिंग की ऊंचाई इस बार 22 फुट की है|  इसकी पहली तस्वीर (Amarnath Caves 2019 First Photograph) कुछ दिन पूर्व सामने आ चुकी है, लेकिन दर्शनार्थियों के लिए एक बुरी खबर है| दरअसल अमरनाथ यात्रा स्थगित कर दी गई है|

“ऐसा करने से देशभक्ति की भावना हुई मजबूत”

प्राप्त जानकारी के अनुसार, अलगाववादियों द्वारा बुलाए गए बंद के कारण शनिवार को अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra Suspended ) स्थगित कर दी गई और तीर्थयात्रियों को जम्मू से कश्मीर घाटी की ओर जाने की अनुमति नहीं दी गई| पुलिस ने यह जानकारी दी|

पुलिस सूत्र ने बताया, “अलगाववादियों द्वारा बंद का ऐलान करने के बाद कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए जम्मू से श्रीनगर जाने वाले तीर्थयात्रियों की आवाजाही आज स्थगित रहेगी|”  साल 1931 में डोगरा महाराज की सेना द्वारा श्रीनगर सेंट्रल जेल के बाहर गोलीबारी में मारे गए लोगों की याद में जम्मू -कश्मीर में 13 जुलाई को शहीदी दिवस मनाया जाता है|

‘तमंचे पर डिस्को’ वाले विधायक का लड़की के साथ VIDEO

राज्य सरकार इस दिन को 1947 में आजादी के लिए लड़ने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति सम्मान के तौर पर मनाती है| 1 जुलाई से शुरू हुई अमरनाथ (Amarnath Yatra Suspended ) की वार्षिक तीर्थयात्रा में 1|50 लाख से अधिक तीर्थयात्री अब तक बाबा बर्फानी का दर्शन कर चुके हैं| इस वर्ष 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के दिन अमरनाथ यात्रा समाप्त होगी|

गौरतलब है कि यात्रा से पहले पाक सीमा और यात्रा मार्ग पर सुरक्षा के इंतजाम कड़े किये गए है और श्रद्धालुओं को सुविधा देने की हर संभव कोशिश की जा रही है| सुरक्षा के मद्देनजर इस बार यात्रा का रजिस्ट्रेशन कार्ड बारकोड (क्विक रिएक्शन कोड) के साथ उपलब्ध कराया गया है | कार्ड वैलिड है कि नहीं इसकी जांच के लिए बारकोड पर वाटर मार्क और अमरनाथ श्राइन बोर्ड का लोगो भी लगाया गया है|

VIDEO : संसद में चला सफाई अभियान, झाड़ू थामे सांसदों का यूं उड़ा मज़ाक

अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अधिकारियों के अनुसार बारकोड पर यात्री का विवरण होने से अगर वो किसी दुर्घटना का शिकार हो जाए या किसी आपदा में फंस जाए तो उसकी पहचान हो सकेगी | अधिकारियों के मुताबिक बार कोड में दिए गए श्राइन बोर्ड के लोगो और अहम जानकारी को मैग्नीफायर ग्लास के जरिये ही देखा जा सकेगा|

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.