ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल, व्यापारियों ने ली राहत की सांस

0

पिछले आठ दिनों से चल रही ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस एसोसिएशन की देशव्यापी हड़ताल शुक्रवार को समाप्त हो गई| यह हड़ताल केंद्र सरकार से हुई वार्ता के बाद समाप्त हुई| अपनी मांगों को लेकर हड़ताल 20 जुलाई से शुरू हुई थी| हड़ताल खत्म हो जाने के बाद अब व्यापारियों ने राहत की सांस ली है|

ट्रेड इंडस्ट्री व एक्सपोर्ट के माल की सप्लाई न होने के कारण करोड़ों के ऑर्डर अधर में लटक गए थे| इस कारण सब्जी के दामों में मामूली बढ़ोतरी भी हुई थी| ट्रांसपोर्टरों का चक्काजाम ऐसे मुकाम पर पहुंच गया था, जहां ट्रांसपोर्टरों की समझ में नहीं आ रहा कि क्या करें क्योंकि आठ दिन बाद भी चक्काजाम का जरूरी वस्तुओं की आवाजाही पर कोई विशेष असर दिखाई नहीं दे रहा था|

दरअसल, जब ट्रांसपोर्टरों ने हड़ताल के लिए सरकार को चेतावनी दी थी तभी सरकार ने ट्रांसपोर्टरों को मनाने की भरसक कोशिश की थी, लेकिन वे तब नाकाम रहे थे| खुद केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने उनकी मांगों के संदर्भ में कुछ ऐलान किए थे, जिसमें ट्रकों के एक्सल लोड में 25-35 फीसद तक की बढ़ोतरी, साल के बजाय दो साल में फिटनेस सर्टिफिकेट तथा ओवरलोडिंग पर टोल जुर्माने में कमी जैसे अहम ऐलान शामिल हैं|

ट्रांसपोर्टरों से वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने भी बैठक की थी, लेकिन तब भी ट्रांसपोर्टर नहीं माने और सरकार को अपनी ताकत का अहसास कराने के लिए हड़ताल पर चले गए| हड़ताल खत्‍म होने को लेकर केंद्रीय परिवहन और हाइवे मंत्रालय व ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस (एआईएमटीसी) ने कई दौर की बैठकों के बाद संयुक्‍त वक्‍तव्‍य जारी किया, जिसके बाद हड़ताल खत्म हुई|

हड़ताल खत्म होने के बाद हैंडटूल एक्सपोर्टर अमित गोस्वामी ने कहा कि ट्रांसपोर्टरों की स्ट्राइक के कारण एक्सपोर्ट खासा प्रभावित हुआ| तैयार माल के कंटेनर शिपमैंट के लिए नहीं भेजे जा सके| अमित ने बताया, “विदेशी कंपनियों से मिले ऑर्डर टाइम बाऊंड होते हैं| शिपमैंट लेट होने के कारण ऑर्डर कैंसल होने का डर बना हुआ है| वहीं दूसरी तरफ हड़ताल के कारण सप्लाई लेट होने से इंडस्ट्रीयलिस्ट का विश्वास खराब होगा| चंद दिनों की हड़ताल से ही पंजाब की इंडस्ट्री को करोड़ों का नुकसान झेलना पड़ा है|”

व्यापारिक संगठनों ने दिया हड़ताल को समर्थन, बाजार रहे बंद

भूख हड़ताल कर रहे सत्येंद्र जैन अस्पताल में भर्ती

Share.