10 साल बाद, खत्म हुआ साथ…

0

जब कोई हमारा अपना हमारा साथ छोड़कर दुश्मन के साथ मिल जाए तो उसका दर्द काफी पीड़ादायक होता है| ऐसा दर्द इन दिनों भाजपा को झेलना पड़ रहा है| आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा कौन है, जो बीजेपी का साथ छोड़ रहा (Gorkha Janmukti Morcha) है|   

दरअसल, पश्चिम बंगाल में 10 सालों से भाजपा के भरोसेमंद साथी के रूप में कार्य कर रही गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (Gorkha Janmukti Morcha) ने अब उन्हें बड़ा झटका दे दिया है| यहां एनडीए के सहयोगी गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने आधिकारिक तौर पर एनडीए से अलग होने का ऐलान कर दिया है। मोर्चा के एनडीए से अलग होने से भाजपा को उत्तरी बंगाल में चार सीटों पर नुकसान का सामना करना पड़ सकता है, जिनमें  दार्जिलिंग की सीट भी शामिल है। ऐसा माना जाता है कि यहां बिना मोर्चा को साथ लिए कोई भी पार्टी जीत दर्ज नहीं कर सकती है।

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष बिनय तमांग ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर तीसरा मोर्चा का हिस्सा बनने की इच्छा जताई है| तमांग ने पत्र में लिखा कि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा पिछले 10 साल से एनडीए के साथ है, हम आधिकारिक रूप से तीसरा मोर्चा के संयोजक के साथ गठबंधन करना चाहते हैं और एनडीए के साथ गठबंधन खत्म कर रहे हैं। हम तीसरा मोर्चा के साथ मिलकर 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

बता दें कि तमांग ने पार्टी के महासचिव अनित थापा के साथ शनिवार को विपक्षी दलों की विशाल रैली में हिस्सा लिया था। जिसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा भाजपा से अलग हो सकती है। ऐसे में तमाम कयासों पर विराम लगाते हुए मोर्चा ने एनडीए से अलग होने का आज आधिकारिक रूप से ऐलान कर दिया।

-अंकुर उपाध्याय

इंसाफ के लिए राष्ट्रीय पहलवान कोर्ट में

कांग्रेस शासनकाल, बीजेपी के लिए काल !

मेहुल चोकसी अब हाथ नहीं आयेगा

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.