पहले नौकरी फिर वोट

0

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सभी राजनीतिक दल कमर कस कर मैदान में उतर चुके हैं। मतदातों को लुभाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे राजनीतिक दलों द्वारा अपनाए जाते हैं। वहीं देश भर में 13 करोड़ नए वोटर हैं जो पहली बार अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। ऐसे में राजनीतिक दल इन वोटरों को लुभाने के लिए अलग चुनावी मुद्दा अख्तियार कर सकते हैं। 18 साल से 21 वर्ष तक की आयु के युवाओं पर एक सर्वे किया गया, जिसमें उनसे उनकी राय जानी गई और वे किस मुद्दे को अहम मानते हैं इसकी जानकारी जुटाई गई।

सर्वे में जो निष्कर्ष निकला उसमे सामाजिक सुरक्षा के तहत महिलाओं ने सुरक्षा को हर दृष्टि से बेहद ही महत्वपूर्ण मुद्दा माना है। वहीँ देश भर के युवाओं ने सबसे ज्यादा रोजगार के मुद्दे पर जोर दिया है। देश भर में किए गए इस सर्वे की रिपोर्ट में 67 प्रतिशत युवाओं को अगली सरकार से रोजगार की मांग है, जबकि 67 महिलाओं ने अगली सरकार से महिलाओं की सुरक्षा की मांग की है। इसके अलावा युवाओं ने बेहतर शिक्षा सुविधाओं के मुद्दे के साथ ही देश में फैला भ्रष्टाचार, धार्मिक हिंसा व चुनाव के समय में झूठे वादों पर नाराजगी व्यक्त की है। युवाओं का कहना है कि चुनावी मौसम में राजनीतिक दल वो वादे करते हैं जिन्हे वे कभी पूरा नहीं करते। सिर्फ वोट पाने के लिए राजनीतिक दल झूठ का सहारा लेते हैं जो कि गलत है।

मुद्दों की सूची में 13 प्रतिशत पुरुषों का राजनीतिक झुकाव रूढ़िवादी विचारधारा की तरफ था, जबकि 23 प्रतिशत महिलाएं इसके खिलाफ थीं। हालांकि कई युवा ऐसे भी थे जो पहली बार मतदान को लेकर काफी उत्साहित दिखे। उनके पास फिलहाल कोई मुद्दा नहीं था लेकिन वे पहली बार मतदान करने को लेकर बेहद ही खुश नज़र आ रहे थे। हालांकि इस मिलीजुली प्रतिक्रिया के तहत किसी भी व्यक्ति या नेता को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की कोई भी बात सामने नहीं आई। सबसे ज्यादा युवाओं की मांग रोजगार और महिला सुरक्षा की रही।

(प्रभात)

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News
Share.