गरीबी हटाने का दावा करने वाली भाजपा अब गरीबों को हटा रही है.

0

भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) गरीबी (Slum Will Be Vacant) के आकड़े बताते हुए कुछ महीनो पहले कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा था कि कांग्रेस (Congress)  ने गरीबों को हटाया जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) गरीबी को मिटा रहे हैं। लेकिन अब जो आरोप भाजपा (BJP) ने कांग्रेस (Congress) पर लगाया था वह स्वयं भाजपा के द्वारा किया जा रहा है जी हां आपको बता दें कि 24 फरवरी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (U.S President Donald Trump)  भारत आने वाले है और आपको बता दें कि ट्रंप मोदी जी के घनिष्ठ मित्र भी है। अब अपने मित्र से देश कि गरीबी छिपाने के लिए भाजपा (BJP)  शासित अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) वहा हवाई अड्डे के पास पांच सौ मीटर ऊंची एक दीवार बना रहा है। उसका मुख्य कारण है कि अमेरिकी राष्ट्रपति की नजर से झुग्गी में रहने वाले लोगों की गरीबी पर ना पड़ जाए वरना देश दुनिया में अपने विकास का दावा करने वाली भाजपा कि पोल खुल जायेगी।

PM Modi In Haryana : अब घर-घर जाकर पानी भरेंगे मोदी!

दीवार (Slum Will Be Vacant) बनाने तक तो ठीक था लेकिन अब खबर आ रही है कि अब दीवार बनाने कि वजाय वहां से गरीबो को ही हटाया जा रहा है। जी हां गुजरात के अहमदाबाद नगर निगम (Ahmedabad Municipal Corporation) ने नए बने मोटेरा स्टेडियम के पास झुग्गियों में रह रहे कम से कम 45 परिवारों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) की 24 फरवरी को निर्धारित यात्रा से पहले उस जगह को खाली करने का नोटिस दिया है। अधिकारियों ने इस प्रस्तावित हाई-प्रोफाइल यात्रा और नोटिस जारी किए जाने के बीच किसी तरह के संबंध से इनकार किया है, लेकिन झुग्गीवासियों ने इस कदम के समय को लेकर सवाल उठाया है।

यह कदम ऐसे वक्त उठाया गया है, जब महज कुछ दिन पहले एएमसी ने उस मार्ग पर पड़ने वाली झुग्गियों (Slum Will Be Vacant) को कथित रूप से ढ़कने के लिए एक दीवार खड़ी करनी शुरू की थी जिस मार्ग से अमेरिकी राष्ट्रपति के गुजरने की संभावना है।

नोटिस में कहा गया है, ‘आपने एएमसी की जमीन का अतिक्रमण किया है। (Slum Will Be Vacant) अगले सात दिनों में अपने सारे सामान के साथ यह जगह खाली करिए, वरना खाली कराने के लिए विभागीय कार्रवाई की जाएगी। यदि आपको कोई आवेदन देना है तो आप 19 फरवरी की दोपहर बाद तीन बजे तक दें।’ ये झुग्गियां अहमदाबाद और गांधीनगर को जोड़ने वाली सड़क के साथ लगी हुई हैं और मोटेरा स्टेडियम से करीब डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर हैं। एक झुग्गीवासी ने मंगलवार को दावा किया कि एएमसी के अधिकारी पिछले सात दिनों में कई बार यहां आ चुके हैं।

Howdy Modi: PM ने सुनाई कविता, मेरे हौसलों की मीनार…देखें VIDEO

झुग्गीवासियों (Slum dwellers) ने कहा हम यहाँ एक दशक से भी अधिक समय से यहां रह रहे हैं। हमें पहले कभी इस जगह को खाली करने का नोटिस नहीं मिला।  (Slum Will Be Vacant) अब हमें क्यों नोटिस दिया गया है। झुग्गीवासियों ने यह तक कहा कि, ‘हम खाली करने को तैयार हैं लेकिन हमें वैकल्पिक आवास की जरूरत है, नहीं तो हम फुटपाथ पर आने को मजबूर हो जाएंगे। हम यहां महिलाओं और बच्चों समेत परिवार के सदस्यों के साथ रहते हैं। हम सरकार से हमें वैकल्पिक जमीन देने की प्रार्थना कर रहे हैं, जहां हम रह सकें।’

इन सब के बीच (Slum Will Be Vacant) यह सवाल उठता है कि मोदी जी (PM Modi) कि सरकार पिछले 6 साल से सत्ता में और ये झुग्गीवासी (Slum dwellers) पिछले एक दशक से वहा है तो फिर विकास के दावे क्या सिर्फ टेलीविज़न के परदे पर ही दिखते है। जमीनी तौर पर अभी भी हालात जस के तस है। पीएम मोदी के द्वारा उठाये गए कदम नोटबंदी, जीएसटी ,जैसे बड़े कदम क्या कारगर साबित नहीं हुए। जीडीपी गर्त में चली गई देश के युवा बेरोजगारी से बेहाल है। महंगाई ने आम आदमी कि कमर तोड़ रखी है। तो फिर विकास कहा है , टेलीविज़न के परदे पर।

आपको बता दें कि नीति आयोग की 2019 की एसडीजी इंडिया रिपोर्ट (SDG India Report) के मुताबिक देश के 22 से 25 राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों में गरीबी, (Slum Will Be Vacant)  भुखमरी और असमानता बढ़ गई है जो चिंता का विषय है। ग्लोबल मल्टी डायमेंशनल पवर्टी इंडेक्स (Global multi dimensional purity index)  सितंबर 2018 में यूएनडीपी-ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (UNDP-Oxford University) द्वारा जारी की गई। रिपोर्ट के अनुसार भारत में अब भी 36.4 करोड़ गरीब हैं, जिसमें से 15.6 करोड़ (करीब 34.6 फीसदी) बच्चे हैं। हैरानी की बात है कि भारत के गरीबों का करीब 27.1 फीसदी हिस्सा अपना दसवां जन्मदिन भी नहीं देख पाता यानी उससे पहले ही उसकी मौत हो जाती है। गरीबी बढ़ने वाले प्रमुख राज्यों में बिहार, ओडिशा, झारखंड, उत्तर प्रदेश, पंजाब, असम और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। नीति आयोग के आंकड़ों के मुताबिक 2018 की तुलना में 2019 में 22 राज्यों एवं केंद्रशासि‍त प्रदेशों में गरीबी बढ़ी है जो एक गंभीर समस्या है।

Happy Birthday PM Narendra Modi : अपने जन्मदिन पर ये खास काम कर रहे हैं पीएम

-मृदुल त्रिपाठी

Share.