एमवाय अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाएं चरमराई

0

जूनियर्स डॉक्टर्स की अनिश्चित हड़ताल के बीच अब एमवाय अस्पताल का नर्सिंग स्टाफ भी हड़ताल पर चला गया है|  संयुक्त मोर्चा स्वास्थ्य कर्मचारी संगठन के बैनर तले बुधवार को नर्सिंग स्टाफ ने अस्पताल के गेट पर एकत्रित होकर मौन धरना दिया| करीब दो घंटे तक चले इस विरोध प्रदर्शन के दौरान  अस्पताल में मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा| हड़ताल में शामिल हुई नर्सेस का कहना है कि सरकार को समान नीति और समान व्यवहार के साथ  काम करना चाहिए, जो अभी सरकार नहीं कर रही है| नर्सेस का कहना है कि उन्होंने यह हड़ताल अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर शुरू की है, जो मांगें पूरी होने तक चलती रहेगी|

मौन रहकर दिया धरना

एमवाय अस्पताल के नर्सिंग स्टॉफ ने अनिश्चितकालीन हड़ताल की शुरुआत करीब 2 घंटे चले मौन धरने से की| इस दौरान नर्सिंग स्टाफ अपने-अपने मुंह पर अंगुली रखकर अस्पताल के मुख्य द्वार पर बैठा रहा| इस दौरान सभी नर्सेस ने शासन की नीतियों को लेकर मीडिया के सामने अपने गुस्से का इजहार भी किया| नर्सिंग स्टाफ का कहना है कि हर बार ही मरीजों की परेशानियों को देखते हुए वे अपने कदम पीछे खींच लेते है, लेकिन इस बार शासन से वे मांगें पूरी करवाकर ही मानेंगे|

पांच सूत्रीय मांगें

वर्ष-2016 से सातवें वेतनमान को लागू करने की मांग के साथ शुरू की गई इस अनिश्चितकालीन हड़ताल के दौरान नर्सिंग एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष सोहनलाल शर्मा ने बताया कि एसोसिएशन की प्रमुख मांगों में  समान वेतनमान, राष्ट्रीय पेंशन योजना का लाभ दिए जाने के अलावा अग्रिम वेतन वृद्धि का लाभ और सरकार जो भी घोषणाएं राज्य के कर्मचारियों के लिए होती है, उसमें स्वशासी शब्द भी जोड़े जाने की है|

नर्सिंग हड़ताल बेअसर

नर्सिंग हड़ताल से खुद एसोसिएशन ने कुछ स्टाफ को मुक्त रखा है, जिससे मरीजों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े| इसके अलावा कुछ नर्सेस स्टॉफ अस्पताल का अपना है| अस्पताल अधीक्षक डॉ. व्हीएस पाल ने कहा कि नर्सिंग स्टाफ के हड़ताल पर जाने से मरीजों के इलाज में कुछ ख़ास फर्क नहीं पड़ा हैं| अस्पताल में स्थाई नर्सेस काम पर है|

यह खबर भी पढ़े – इंदौर: पूर्णा पटेल की शादी में धोनी का परिवार

यह खबर भी पढ़े- इंदौर : मोबाइल के लिए साथियों ने की हत्या

यह खबर भी पढ़े – हुकुमचंद मिल: इंदौर में हक़ के लिए जारी है लड़ाई

Share.