होमवर्क न करने पर टीचर ने दी ऐसी खौफनाक सजा, देखें वीडियो

0

मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले से एक बेहद ही सनसनीखेज मामला सामने आया है। दरअसल यहां स्थित एक स्कूल में छात्राओं द्वारा होमवर्क नहीं किए जाने पर उन्हें इतनी खौफनाक सजा दी गई कि उन्हें अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। मामला टीकमगढ़ जिले के मोहनगढ़ तहसील क्षेत्र के कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास का बताया जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार छात्रावास में शिक्षिका मोना सोनी ने छात्राओं को एप्लीकेशन का मैटर याद करने के लिए दिया था। बुधवार देर शाम जब शिक्षिका ने छात्राओं से होमवर्क को लेकर सवाल किया तो 8 छात्राएं इसका जवाब नहीं दे पाईं।

Video : मिर्ची बाबा ने कहा शिवराज सिंह कर सकते हैं हत्या!

होमवर्क में दिया मैटर याद न कर पाने से नाराज़ शिक्षिका ने छात्राओं की रूल से पिटाई कर दी। इसके बाद शिक्षिका मोना सोनी ने छात्राओं को 120 उठक-बैठक लगाने को कहा। इस सजा से छात्राओं की हालत बिगड़ गई और उन्हें अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। यह मामला सामने आने पर ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। अब यह मामला शासन तक पहुंच गया है। छात्राओं को दर्दनाक सजा देने वाली अतिथि शिक्षिका मोना सोनी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। इस पूरे मामले में छात्रावास की वार्डन ने कहा, “मैं किसी सरकारी काम से टीकमगढ़ आई थी। मुझे जैसे ही पता लगा तो मैंने शिक्षिका मोना सोनी को पद से हटा दिया है।”

कांग्रेस विधायक जिंदा जलाने जा रहे है सांसद प्रज्ञा को!

गौरतलब है कि शिक्षिका ने छात्राओं को इतनी बेहरमी पीटा की उनकी हथेलियां तक सूज गई। रात भर छात्राएं दर्द से तड़पती और कराहती रहीं। सुबह जब छात्रावास की वार्डन उपासना दुबे पहुंचीं तब छात्राओं ने पूरी घटना उन्हें बताई। इसके बाद वार्डन ने तत्काल ही डायल 100 और 108 एम्बुलेंस बुलाकर छात्राओं को अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में भर्ती सभी छात्राओं की उम्र 11 से 13 साल बताई जा रही है। वहीं भर्ती छात्राओं ने शिक्षिका पर छूआ-छूत का आरोप भी लगाया है।

सिंधिया ने इसलिए बदला अपना ट्विटर स्टेटस असलियत आई सामने

स्थानीय लोगों का कहना है कि छात्रावास में रात के समय वार्डन और सहायक वार्डन के मौजूद न रहने पर ऐसी घटनाएं होती रहती हैं। वहीं जिन छात्राओं को अस्पताल में भर्ती कराया गया है उनके नाम विनीता चढ़ार, श्री यादव, मोना घोष, शिवानी घोष, अर्चना रजक, मुस्कान यादव, शिवानी अहिरवार और गीता चढ़ार बताए जा रहे हैं।

Prabhat Jain

Share.