Sadhvi Pragya Thakur ने फिर दिया बयान

0

लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान साध्वी प्रज्ञा ठाकुर (Sadhvi Pragya Thakur) ने कई उलजलूल बयान दिए थे| उन्होंने हेमंत करकरे को लेकर शाप देने वाला विवादित बयान दिया था, वहीं नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा था | इसको लेकर उनकी काफी भर्त्सना की गई थी, लग रहा था वे शायद ही जीत पाएंगी, परंतु उन्होंने सबके कयासों को धता बताते हुए बड़ी जीत हासिल की| अब उन्होंने एक और बयान दिया है, परंतु इस बार उनके बयान की आलोचना नहीं तारीफ़ हो रही है|

मोदी की शपथ को लेकर ज्योतिष का नज़रिया

दरअसल, भोपाल से नवनिर्वाचित भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Sadhvi Pragya Thakur) ने कहा कि वे सांसद के तौर पर मिलने वाले वेतन का उपयोग देश और ज़रूरतमंदों के लिए करेंगी। अपने वेतन को वे खुद के ऊपर खर्च नहीं करेंगी। गाजियाबाद के एएलटी सेंटर में वीर सावरकर की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि जिस तरह से वे पहले से ही अपना जीवनयापन करती आई हैं, ठीक वैसे ही आगे भी करेंगी।

उन्होंने कहा (Sadhvi Pragya Thakur) कि भिक्षा में मिले भोजन और वस्त्र से वे अपना जीवनयापन करेंगी। कार्यक्रम में प्रस्तुत किए गए दो प्रस्तावों में स्कूलों में सैन्य प्रशिक्षण शामिल करने और जनसंख्या नियंत्रण कानून को लागू करने पर उन्होंने कहा कि सैन्य प्रशिक्षण को लेकर जहां भी समर्थन की बात होगी, वे अपना समर्थन देंगी जबकि जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू करने पर साध्वी ने संविधान के अनुसार इसे आगे ले जाने के लिए कहा।

सरकारी पचड़े में फंसे कमलनाथ, सीबीआई करेगी जांच

साध्वी (Sadhvi Pragya Thakur) ने कहा कि जेल में मुझे मिले कष्ट देश पर कुर्बान होने वाले वीर-वीरांगनाओं को मिले कष्टों से कम हैं। साध्वी ने कहा कि एक गाना भी मुझे उन दिनों याद आता था-

‘दुनिया में इतना गम है, मेरा गम कितना कम है।’

गौरतलब है कि नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने वाले बयान पर भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा (Sadhvi Pragya Thakur) के खिलाफ नोटिस जारी किया था । वहीँ इस बयान का समर्थन करने वालों के खिलाफ भी नोटिस जारी किया गया था। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी। अमित शाह ने ट्वीट किया था , “विगत 2 दिनों में श्री अनंतकुमार हेगड़े, साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और नलिन कटील के जो बयान आये हैं वो उनके निजी बयान हैं, उन बयानों से भारतीय जनता पार्टी का कोई संबंध नहीं है।”

कैलाश विजयवर्गीय फिर दिखे नए रूप में

Share.