website counter widget

पोता मना करता रहा, लेकिन दादा ठगा गए..!

0

बच्चों को भगवान का रूप माना जाता है, लेकिन फिर भी अक्सर बड़े बच्चों की बातों को गंभीरता से नहीं लेते। बच्चों की बातों को गंभीरता से नहीं लेने की सज़ा कई बार बहुत महंगी पड़ जाती है। ऐसा ही एक मामला रतलाम से सामने आया है, जहां एक बुजुर्ग ऑनलाइन धोखाधड़ी के शिकार हो गए हैं।

बिहार में फिर मॉब लिंचिंग : पति के सामने  भीड़ ने फाड़ दिए कपड़े, की मारपीट

प्राप्त जानकारी के अनुसार, कस्तूरबा नगर, गली नंबर 5 निवासी पुरुषोत्तम शर्मा के पास एक फ़ोन आया। फ़ोन पर बात करने वाले ने खुद को बैंक अधिकारी बताते हुए उनका एटीएम कार्ड ब्लॉक होने की सूचना दी। कार्ड को अनलॉक करने के लिए उसने मोबाइल पर आने वाला ओटीपी बताने को कहा। यह बातचीत पास खड़ा उनका पोता सुन रहा था। उसने दादा को बोला कि ऐसा नहीं होता दादा, उसको ओटीपी मत बताओ, लेकिन दादा सामने वाले की बातों में फंस चुके थे। अपने पोते की बात को नज़रन्दाज़ करते हुए वे लगातार ओटीपी बताते चले गए। फ़ोन काटने के तुरंत बाद उनके खाते से चार बार 10 हजार रुपए निकाल लिए गए। 40 हजार रुपए निकालने का मैसेज मिलते ही उन्हें इल्म हुआ कि वे धोखाधड़ी के शिकार हो चुके हैं। इसके बाद वे तुरन्त बैंक पहुंचे और वहां से पुलिस थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज की।

कुत्तों ने निकाला मासूम के पेट से मांस का लोथड़ा

पुलिस का कहना है कि मामला साइबर अपराध श्रेणी में दर्ज कर लिया है और बैंक को भी ट्रांजेक्शन रद्द करने के लिए सूचित कर दिया है। सोमवार तक ही स्थिति साफ हो पाएगी। बुज़ुर्गो को आमतौर पर ऐसी घटनाओं का पता नहीं रहता है इसलिए वे आसानी से धोखे के शिकार हो जाते हैं। यदि आपके घर में भी बुज़ुर्ग हैं तो उन्हें इन घटनाओं के बारे में बताएं और समझाएं कि फ़ोन पर किसी से भी ओटीपी शेयर न करें। आपकी थोड़ी सावधानी बड़ी दुर्घटना को टाल सकती है।

डीएम से माया के जूते साफ कराने वाला आज़म का बयान अब पड़ा भारी

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.