डेयरी पर छापा, केमिकल और डिटर्जेंट से बनाया जा रहा था दूध

0

नीमच: इन दिनों दीपावली का माहौल चल रहा है इसलिए लोग भरी मात्रा में मिठाईयां और दूध से बनी चीजें खरीदते है (Synthetic Milk Racket Busted In MP)। लेकिन ये दूध और मिठाई आजकल जानलेवा पदार्थों से बनाई जा रही है. जो आपकी त्यौहार की ख़ुशी को गम में बदल सकती है। क्योंकि हाल ही में केमिकल,पाम ऑयल और डिटर्जेंट (Palm oil, detergent and chemical) से भारी मात्रा में हज़ारों लीटर सिंथेटिक दूध(Synthetic milk) बनाने का मामला प्रकाश में आया है। अनुमान लगाया जा रहा है की नकली दूध बनाने वालों का ये रैकेट (racket) दूर तक फैला हुआ है.

महाराष्ट्र में सत्ता के लिए शिवसेना कांग्रेस के साथ!

जानकारी के अनुसार अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट विनय धोका ने बताया कि नीमच जिला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर जिले के आखरी तहसील मुख्यालय के तहत इलाके रामपुरा में सिंथेटिक दूध बनाये जाने की सूचना प्रशासन को मिली थी। उन्होंने बताया कि बुधवार को मुखबिर की सूचना पर जिला कलेक्टर अजय गंगवार के निर्देश पर एक टीम गठित की गयी (Synthetic Milk Racket Busted In MP)। एसडीएम अरविन्द माहोर के साथ मुख्य खाद्य निरीक्षक संजीव मिश्रा, नापतोल विभाग के अफसर और पुलिस बल ने जब महावीर दूध  (Mahaveer Dairy) डेयरी पर छापा मारा तो वहां बड़े पैमाने पर पाम ऑयल, डिटर्जेंट और केमिकल मिला, जिससे सिंथेटिक दूध बनाया जा रहा था।

Kantilal Bhuria मध्यप्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष!

मजिस्ट्रेट विनय धोका के अनुसार मौके पर मौजूद मुख्य खाद्य निरीक्षक संजीव मिश्रा ने बताया कि इस डेयरी द्वारा मात्र 5,000 लीटर दूध प्रतिदिन गाँवों से इकट्टा किया जाता है, जबकि इस डेयरी से प्रतिदिन 15,000 से 20,000 लीटर दूध की मध्य प्रदेश और राजस्थान के कई हिस्सों में आपूर्ति की जाती है (Synthetic Milk Racket Busted In MP)। जिला प्रशासन की इस कार्रवाई से साफ हो गया है कि दूध का ये काला धंधा काफी समय से चल रहा है. राज्य के दूरस्थ अंचल में प्रतिदिन हज़ारों लीटर दूध सिंथेटिक तरीके से बनाकर लाखों लोगों की सेहत से खिलवाड़ किया जा रहा है.

भीड़ ने पीट पीट कर सीएसपी की पसलियां तोड़ी

-Mradul tripathi

Share.