देवास स्थित गौशाला बनी गायों की मौत शाला

0

वैसे तो देश में सभी पार्टियां गौ माता को लेकर बड़े-बड़े वादे करती है। इस बार के चुनाव में गायों की रक्षा सभी ने अपने मेनिफेस्टो में शामिल किया था। गायों को गौ-माता कहा जाता है उन्हें माता का दर्जा दिया जाता है। राज्य सरकार गौशाला बनाकर गायों की रक्षा करने के वादे करती है लेकिन हक़ीक़त कुछ और ही बयां करती है। मध्यप्रदेश के देवास जिले के राबड़िया गांव में बनी एक गौशाला इसका जीता-जागता उदाहरण है। राबड़िया गांव में बनी इस गौशाला का मंजर जिसने भी देखा उसकी रूह कांप उठी। इस गौ-शाला का मंज़र बेहद ही भयावह था। यहां गायों को मरने के लिए छोड़ दिया जाता है। इन बेजुबान गायों को यहां तड़पने के लिए छोड़ दिया जाता है।

लापता चिदंबरम को ढूंढ रही सीबीआई, क्या ये है बदले की राजनीति ?

हाल ही में गांव के एक शख्स अम्बाराम मालवीय की गाय को नगर निगम ने पकड़ लिया था। जिसे छोड़ने के लिए अम्बाराम ने काफी गुहार लगाई लेकिन नगर निगमकर्मियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। इसके बाद निगम द्वारा पकड़ी गई गायों को सिया पूरा के समीप राबड़िया गांव में बनी गौशाला में छोड़ दिया गया। इस गौशाला को मौत-शाला कहना गलत नहीं होगा। जब परेशान अम्बाराम अपनी गाय को छुड़ाने के लिए गौशाला पहुंचे तो उनकी गाय को छोड़ने के एवज में उनसे रुपए की मांग की गई। अम्बाराम अपनी गाय को छोड़ने की काफी गुहार लगाते रहे लेकिन किसी अधिकारी पर कोई भी असर नहीं हुआ। इसके बाद जब अम्बाराम गौशाल के अंदर दाखिल हुए तो वहां का नज़ारा देख उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। गौशाला में बेजुबान गायों की हालत इस मौतशाला का हाल बयां कर रही थी।

Babulal Gaur Shradhanjali Whatsapp Status : इन संदेशों और फोटो से दें बाबूलाल गौर  को श्रद्धांजलि

अम्बाराम ने तत्काल ही बिना समय गवाए इस बात की सूचना सभापति अंसार अहमद ‘हाथिवाले’ को दी। सूचना मिलते ही अंसार अहमद पार्षद मनीष सेन, धर्मेन्द्र पाचुनकर और अर्जुन चौधरी के साथ गौशाला पहुंच गए। इस गौशाला में 10 से अधिक गाय मृत अवस्था में मिली। हद तो तब हो गई जब गौशाला में कीचड में कुछ गाय फंसी हुई तड़प रही थीं। मामला बेहद ही गंभीर है। इस पर सभापति ने तत्काल ही उच्च अधिकारीयों को इस बात की जानकारी दी। बताया जा रहा है कि गौशाला अधिकारी मृत गायों का बीमा लेते हैं। गायों को तड़पने के लिए गौशाला में छोड़ दिया जाता है और उनके मरने पर बीमे के तौर पर मोटी रकम वसूल की जाती है।

Former MP CM Babulal Gaur Passes Away : MP के पूर्व CM बाबूलाल गौर का निधन

Share.