अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ा दिव्यांगों का शिविर

0

प्रशासन द्वारा दिव्यांगों के लिए आयोजित किए गए शिविर में अव्यवस्थाएं दिखीं| इन अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़े दिव्यांग, जो मन में आस लेकर कार्यक्रम में पहुंचे थे, लेकिन उन्हें भी बस राजनीति का मोहरा बनाया गया| मंच तक पहुंचने के लिए भी दिव्यांगों की सहूलियत का ध्यान नहीं रखा गया| कई लोग घिसट-घिसटकर मंच पर रोते हुए पहुंचे|

दरअसल, मध्यप्रदेश के सतना जिले में केंद्रीय सामाजिक न्याय और आधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत द्वारा दिव्यांगजन सहायक उपकरण वितरण शिविर का आयोजन करवाया गया| इसमें कार्यक्रम में दावा किया गया कि 338 दिव्यांगों को 1 करोड़ 30 लाख रुपए के उपकरण वितरित किए गए, लेकिन सच्चाई कुछ और ही है| कार्यक्रम में पहुंचे कुल दिव्यांगों में से 70 प्रतिशत को भी लाभ नहीं मिल पाया|

मंत्री और सांसद मंच पर थे| उनके सामने ही पात्र दिव्यांग भटकते रहे, कुछ जमीन पर पड़े रहे, कुछ घिसट-घिसटकर मंच पर पहुंचे| वे लगातार आंसू बहा रहे थे, लेकिन नेताओं को दया नहीं आई| कार्यक्रम में दिव्यांगों के पात्रता चयन में भी भेदभाव किया गया| दूरदराज से वहां पहुंचे कई दिव्यांगों का रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया गया| अपने संबोधन में गहलोत ने कहा कि भारतीय संस्कृति हमें दीन-दुखियों की सेवा करने की सीख देती है| यदि हम सब मिलकर दिव्यांगों के कल्याण में सहभागिता निभांएगे तो वे भी मानवता के विकास में कदम से कदम मिलाकर चल पाएंगे|

Share.