website counter widget

कमलनाथ के मंत्री का सिर,सिंधिया के पैरों में

0

ग्‍वालियर: सियासत में चरण वंदना का सिलसिला काफी पुराना है। जो जितना झुकता है उसे उतना ही अच्छा प्रसाद मिलता है। और अक्सर सियासत में किसी न किसी के द्वारा अपने से बड़े पद या वरिष्ठ के चरण वंदना का मामला सामने आता रहता है। अभी हाल ही में एक आरक्षक के द्वारा प्रदेश के मंत्री तुलसी सिलावट(Tulsi silawat) की चरण वंदना की गई थी जिसके बाद यह मामला बहुत सुर्ख़ियों में रहा था। लेकिन इसके बाद एक और इसी प्रकार का मामला प्रकाश में आया है जिसमे चरण वंदन करने वाले स्वयं कमलनाथ (Kamal Nath) सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Cabinet Ministers Pradyumn Singh Tomar) है जिन्होंने कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की चरण वंदना की है। अब यह मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। विपक्ष कि ओर से कहा जा रहा हैं की ये मंत्री पद का अपमान है मध्‍य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और पूर्व मंत्री गोपाल भार्गव ने इसे लोकतंत्र का अपमान बताया है।

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन! सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना!

जानकारी के अनुसार यह मामला सोमवार का है जब ज्योर्तिरादित्य सिधिंया (Jyotiraditya Scindia) ग्वालियर पहुंचे तो उनका भव्य स्वागत किया गया,रेलवे स्टेशन पर श्री सिंधिया का स्वागत करने के लिए नेताओं से लेकर कार्यकर्ताओं की भीड़ जमा हो गई , सभी ने श्री सिंधिया का फूल, माला पहनाकर भव्य स्वागत किया, इस बीच कमलनाथ सरकार में खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भी पहुंचे, जिन्होने सिंधिया को देखकर हाथ जोड़े, पैर छुए इसके बाद दंडवत प्रणाम करने के लिए साष्टांग लेट गए. इस प्रकार मंत्री जी के द्वारा सिंधिया की चरण वंदना करता देख लोगों के आश्चर्य का ठिकाना न रहा।

कौन होगा आयोध्या मंदिर का प्रधान पुजारी

मामले को सुर्ख़ियों में आता देख राष्‍ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने कहा कि वह इस घटनाक्रम से खुश नहीं है, बल्कि उन्हें दुख हुआ है. इसलिए मैंने कहा है कि आगे से ऐसा न हो. इस संबंध में जब मंत्री जी से पूछा गया तो उन्होने कहा कि राजस्थान में इसी तरह प्रणाम करने का रिवाज है, जो मैने निभाया है. और मैं सिंधिया परिवार का सेवक हूं. इसलिए चरणवंदना करता हूं. इसमें किसी को क्या आपत्ति है। आपको बता दें प्रद्युम्न सिंह तोमर को ज्योतिरादित्य सिंधिया का विशेष आर्शीवाद मिला हुआ है और उन्ही के गुट से सरकार में मंत्री बनाए गए है. जिन्होने पिछले दिनों ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्यप्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की मांग की थी.

शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए कांग्रेस की शर्त

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.