website counter widget

कमलनाथ की आई शामत, शिवराज ने इस्तीफ़ा मांगा

0

लोकसभा चुनाव 2019 के सात चरणों के पूर्ण होने के बाद अब हर न्यूज़ चैनल और अन्य समाचार एग्जिट पोल को लेकर अपने दिमागी घोड़े दौड़ा रहे हैं | इन नतीजों को देखकर कांग्रेस की चिंता बढ़ती जा रही है| इन नतीजों के बाद सबसे ज्यादा शामत जिस सरकार की आई है तो वह है कमलनाथ सरकार (Kamal Nath government in problem ?)| मीडिया के सामने वे भले ही कुछ भी कह लें, लेकिन कहीं न कहीं चिंता का विषय तो है| अब प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने उनसे इस्तीफ़ा मांगकर (Shivraj Singh Chouhan Ask Resignation To Kamal Nath) उनकी चिंता को और बढ़ा दिया है|

‘मप्र कांग्रेस के विधायक बीजेपी के संपर्क में’

गौरतलब है कि पहले तो नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने राज्यपाल को चिट्ठी लिखने की धमकी दी थी, परंतु अब बीजेपी खुलकर मैदान में आ गई है| इसी कड़ी में अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कमलनाथ सरकार (Kamal Nath government in problem ?) पर हमला बोल दिया और मुख्यमंत्री का इस्तीफा भी मांग लिया|

इंदौर पहुंचे शिवराजसिंह चौहान ने कहा (Shivraj Singh Chouhan Ask Resignation To Kamal Nath), “पूरे प्रदेश में कांग्रेस हार रही है, इसलिए मंत्रियों की बजाय खुद सीएम कमलनाथ (Kamal Nath government in problem ?)इस्तीफा दें, कमलनाथ ने कहा था कि जिस मंत्री के क्षेत्र से कांग्रेस हारेगी, उसे मंत्री पद छोड़ना होगा|” शिवराज चौहान ने दावा किया कि बीजेपी मध्य प्रदेश की सभी 29 सीटें जीत रही है|

कमलनाथ सरकार पर संकट ? 

गौरतलब है कि बीजेपी ने मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार (Kamal Nath government in problem ?) के अल्पमत में होने का दावा किया है | नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने  राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर सत्र बुलाने की मांग की (Gopal Bhargava Wrote Letter To Governor ) है| इसके बाद मध्यप्रदेश की राजनीति में हड़कंप सा मच गया है|

गोपाल भार्गव ने हाल ही में कहा था (Gopal Bhargava Wrote Letter To Governor ), “जिस तरह से केंद्र और राज्य में बीजेपी को अपार जनसमर्थन मिल रहा है| कई कांग्रेस के विधायक कमलनाथ सरकार (Kamal Nath government in problem ?) से परेशान हो चुके हैं और बीजेपी के साथ आना चाहते हैं|” उन्होंने कहा, “बीजेपी खरीद-फरोख्त नहीं करेगी, लेकिन कांग्रेस के ही विधायक अब उनकी सरकार के साथ नहीं हैं|”

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव से पहले भी बीजेपी नेताओं द्वारा लगातार बयान दिया जा रहा था कि यदि बीजेपी की सरकार दोबारा बनती है तो मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार संकट में (Kamal Nath government in problem ?) आ जाएगी|

उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव 2018 में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी| कुल 230 विधानस

गोडसे को देशभक्त कहने वाली साध्वी प्रज्ञा की सजा मुकर्रर

भा सीटों में से उसे 114 सीटें मिली थीं| हालांकि बहुमत के आंकड़े से वे दो सीटें दूर रह गई थीं | बहुमत के लिए 116 सीटें चाहिए थीं वहीं बीजेपी को 109 सीटें मिली थीं | इसके अलावा निर्दलीय को चार, बसपा को दो सीटें और सपा को एक सीट मिली थी|

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.