सरकारी पचड़े में फंसे कमलनाथ, सीबीआई करेगी जांच

0

मध्यप्रदेश में कमलनाथ की मुश्किलें (Kamal Nath traced in scam) हैं कि कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं | वे लगातार परेशानियों में घिरते नज़र आ रहे हैं| लोकसभा चुनाव के बाद जब से एग्जिट पोल आने शुरू हुए थे, तब से मप्र की कमलनाथ सरकार की नींद उड़ी हुई थी| भाजपा के पक्ष में नतीजे आने के बाद जहां नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने राज्यपाल को पत्र लिख विधानसभा सत्र बुलाने की बात कही थी, वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कमलनाथ को इस्तीफ़ा देने तक की सलाह दे डाली थी| अब वे सरकारी पचड़े में फंस गए हैं|

करंट की चपेट में आने से बच्ची की मौत, मां घायल

दरअसल, मप्र में काबिज कमलनाथ सरकार (Kamal Nath traced in scam) की ओर से सरकारी विभागों से करोड़ों रुपए की उगाही और कांग्रेसी उम्मीदवारों के बीच बंटवारे की जांच शुरू करने के लिए सीबीआई अब कानूनी राय ले रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, कार्मिक मंत्रालय इस मामले में ज़रूरी अधिसूचना भी जारी कर चुका है। चुनाव आयोग ने मध्यप्रदेश के विभिन्न विभागों से करोड़ों रुपए की उगाही और उससे कांग्रेस पार्टी और उसके प्रत्याशियों के बीच बंटवारे के पुख्ता सबूत (Kamal Nath traced in scam) को देखते हुए मई के पहले हफ्ते में ही कार्मिक मंत्रालय को सीबीआई से जांच करवाने के लिए पत्र लिख दिया था।

रातोंरात किए 21 आईएएस अफसरों के तबादले

चुनाव आयोग की सिफारिश पर सलाह-मशवरे के बाद कार्मिक मंत्रालय ने 16 मई को सीबीआई जांच की अधिसूचना जारी कर दी थी। कार्मिक मंत्रालय की अधिसूचना के बाद सीबीआई को किसी भी मामले की जांच का अधिकार मिल जाता है, लेकिन इस मामले में सीबीआई ने जांच शुरू करने के बजाय कानूनी सलाह लेने का फैसला किया कि चुनाव आयोग की ओर से भेजे गए मामले की वह जांच कर सकती है या नहीं। इस संबंध में सीबीआई (Kamal Nath traced in scam) का कहना है कि चुनाव आयोग के कहने पर सीबीआई ने अभी तक कोई जांच नहीं की थी। पहली बार ऐसा मामला सामने आने के बाद कानूनी सलाह लेने का फैसला किया गया।

दरअसल,सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी चुनाव में भाजपा को स्पष्ट बहुमत को लेकर आश्वस्त नहीं थे और नतीजों तक किसी तरह जांच को टालना चाहते थे। इसके लिए कानूनी सलाह की (Kamal Nath traced in scam) आड़ ली गई। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनावी रैलियों में बार-बार इस मुद्दे को उठाते हुए महिलाओं और बच्चों के लिए आवंटित राशि में घोटाला करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का ऐलान कर चुके हैं।

शिवराज सरकार के एक फैसले को बदलने पर आमादा

Share.