कैलाश का हाथ थामकर बीजेपी में आएंगे कांग्रेसी सिंधिया!

0

पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Congress senior leader Jyotiraditya Scindia) का अपनी पार्टी के प्रति गुस्सा साफ-साफ दिख रहा है, जिसके बाद कहा जाने लगा वे कांग्रेस का हाथ छोडकर बीजेपी (Jyotiraditya Scindia Will Join BJP) के साथ आ आने वाले हैं। कई लोगों ने इसे अटकलें बताते हुए मानने से इनकार कर दिया, लेकिन अब भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (BJP general secretary Kailash Vijayvargiya ) के बयान के बाद स्थित साफ-साफ समझ आ जाएगी कि सिंधिया  बीजेपी में  शामिल  हो सकते हैं या नहीं ।

सावधान ! स्लीप मोड पर ना छोड़े लैपटॉप, बन जाएगा बम

कैलाश का हाथ थामकर बीजेपी में शामिल  होने  सिंधिया

कैलाश विजयवर्गीय के बयान (Kailash Vijayvargiya statement ) के बाद सूत्रों का कहना है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अब पीएम मोदी के खेमे में शामिल होने कि योजना बना रहे हैं। सिंधिया के ट्विटर बायो के बारे में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कांग्रेस में बर्गनिंग कि परंपरा रही है। अस्त्र-शस्त्र चलाना हो तो इस तरह का उपयोग कांग्रेस में सामान्य बात है। सिंधिया के ट्विटर के स्टेटस बदलने पर विजयवर्गीय ने कहा कि लंबे समय से सिंधिया (Jyotiraditya Scindia Will Join BJP) की कांग्रेस में उपेक्षा हो रही है। जो कि किसी भी पार्टी के नेता के लिए सही नहीं है।

ओवैसी के कारण खौफ़ मेँ ममता बनर्जी!

ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में आने के बारे में सोशल मीडिया पर फैल रही अटकलों के बारे में विजयवर्गीय ने कहा कि ऐसी कोई बात मेरी जानकारी में नहीं है । सिंधिया का निर्णय भाजपा का केन्द्रीय नेतृत्व करेगा।  वैसे भी यदि कोई भाजपा में आना चाहता है तो हम उनका स्वागत ही करेंगे। कांग्रेस ने हमेशा ही छालावा किया है।  पहले माधोराव सिंधिया के साथ और अब ज्योतिरादित्य के साथ।  माधोराव सिंधिया को कभी भी अर्जुन सिंह ने आगे नहीं आने दिया, वहीं काम अब सिंधिया के साथ दिग्विजय सिंह कर रहे हैं। जब मुख्यमंत्री बनाने की बात आई तो भी कमलनाथ कि तरफ इशारा कर दिया गया था। उस समय विजयवर्गीय ने कहा था कि जो घिर जाता है  उसके प्रति हमारी सहानुभूति नहीं है। अभी सिंधिया घिरे हुए हैं । राजनीति में संबंध निभाना अरुण जेटली जानते थे। उन्होने पार्टी कि नाराजगी के बाद भी सिंधिया से ग्वालियर जाकर उनके निवास पर मुलाक़ात की थी और कांग्रेस इसके बाद भी  आपस में  भिड़ गई थी।

महाराष्ट्र की नई सरकार से राहुल गांधी को एतराज!

      – Ranjita Pathare 

 

Share.