Himmat Patidar Murder Case : पुलिस की आशंका सच साबित हुई

0

मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता हिम्मत पाटीदार की कथित हत्या के मामले में पुलिस ने आख़िरकार सभी तथ्यों को उजागर कर दिया। डीएनए जांच करने पर शव मदन का साबित होने के बाद पुलिस को जो आशंका थी, वह आखिर सच साबित हो ही गई| पुलिस ने कल यह आशंका व्यक्त की थी कि कहीं हिम्मत पाटीदार ने ही तो मदन की ह्त्या नहीं की ? तमाम विवेचना के बाद आख़िरकार आज यह साबित हो गया और पुलिस ने भी घोषणा कर दी कि हिम्मत पाटीदार ने ही बीमा के रुपयों के लालच में मदन की ह्त्या की थी| अब हिम्मत पाटीदार (Himmat Patidar Fake Murder ) की तलाश जारी है|  

Himmat Patidar Murder Case : फिर आखिर हिम्मत कहां है ?

पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के अनुसार, “शुरुआती जांच में आए तथ्यों के अनुसार पाटीदार पर काफी कर्ज हो गया था। उसके नाम से लगभग 20 लाख रुपये की बीमा पालिसी है। उसने सोचा कि अपनी मौत का नाटक रचकर वह बीमा की यह राशि हासिल कर लेगा। इसके लिए उसने बड़ी चालाकी से मदन मालवीय की हत्या कर दी और खुद को मृत घोषित (Himmat Patidar Fake Murder ) कर दिया। मालवीय की कद-काठी पाटीदार से मिलती-जुलती थी।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पाटीदार ने बीमा के रुपए हासिल करने के लिए साजिश के तहत मालवीय को धारदार हथियार से हमला कर मार डाला। पहचान छुपाने के लिए उसका चेहरा जला दिया और उसकी जेब में अपने कुछ दस्तावेज रख दिए, ताकि उसे पाटीदार समझ लिया जाए। हिम्मत पाटीदार द्वारा अपनी उधारी के रुपए चुकाने के लिए पहले अपना बीमा करवाया गया और बाद में उक्त घटनाकम को सुनियोजित तरीके से रचा गया ताकि हिम्मत की मृत्यु की पुष्टि होने पर उसके द्वारा कराए गए बीमे की राशि परिवारवालों को मिल सके |

तिवारी ने कहा, पाटीदार ने मालवीय के शव के साथ जो दस्तावेज रखे, उनमें मोबाइल फोन, पर्स, आधार कार्ड, एटीएम कार्ड और एक पॉकेट डायरी शामिल थी, जिसमें पाटीदार के बीमा से जुड़ी जानकारी, बैंक खाता, एफडी और उधारी खाता के ब्योरे थे।

एसपी ने बताया कि हिम्मत पाटीदार को तलाश किया जा रहा है | उसके मिलने पर इस घटना के संबंध और भी कई तथ्यों के खुलासे होने की संभावना है। आरोपी की सूचना देने वाले को पुलिस अधीक्षक, रतलाम द्वारा दस हजार रुपए इनाम की घोषणा की गई है| प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए इसे चिन्हित जघन्य व सनसनीखेज श्रेणी में रखा गया है।

रतलाम : RSS कार्यकर्ता की हत्या…

यूं बदली जांच की दिशा

वरिष्ठ अधिकारियों ने जब शव और हिम्मत कोठारी के फोटो का मिलान किया तो उन्हें त्वचा का रंग अलग दिखा। लाश का रंग गेहुंआ था जबकि परिजन द्वारा उपलब्ध करवाए फोटो में हिम्मत का रंग गहरा सांवला है। इसी शंका में पुलिस ने दोबारा जांच शुरू की।

इस भाजपा नेता की भाभी की हत्या

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.