भाजपा के पूर्व विधायक ने कमलनाथ का खून बहाने की खुलेआम धमकी दी  

0

मप्र में विभिन्न शहरों में नगर निगम द्वारा अतिक्रमण हटाने और जर्जर मकान तोड़े जाने की कार्रवाई कर अपना कर्तव्य निभाया जा रहा है, परन्तु नेता और जनप्रतिनिधि उनकी राह में रोड़े अटका रहे हैं | स्वयं को जनता के हिमायती साबित करने में वे अपना आपा खो बैठते हैं | जहां जून माह में इंदौर में क्षेत्र क्रमांक 3 के विधायक ने गुस्से में कार्रवाई करने आई नगर निगम की टीम के अधिकारी को बैट मार दिया था, जिस पर राष्ट्रीय स्तर पर बवाल हुआ था| अब भोपाल में एक और भाजपा नेता (BJP Leader Surendranath Threatens To Kamal Nath) स्वयं को जनता के हिमायती साबित करने में अपना आपा खो बैठे|

Bihar Chhapra Saran Mob Lynching : पशु चोरी के नाम पर भीड़ ने फिर बहाया मासूमों का खून

दरअसल, एमपी नगर में अतिक्रमण कर वर्षों से जमी गुमटियां हटाए जाने के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे भाजपा के पूर्व विधायक सुरेंद्रनाथ सिंह (BJP Leader Surendranath Threatens To Kamal Nath) ने गुरुवार को शब्दों की मर्यादा तोड़ दी। उन्होंने गुमटियां हटाने और झुग्गीवासियों को मिल रहे भारी बिजली बिल को लेकर रोशनपुरा चौराहे पर प्रदर्शन किया। यहां से वे लोगों के हुजूम के साथ विधानसभा का घेराव करने निकले।

इसी दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के लिए अपशब्द कहते हुए प्रशासन को खुली चुनौती दे डाली। गुमटी व्यवसायियों से नारे लगवाते हुए सिंह बोले – “ हमारी मांगें पूरी नहीं हुईं तो सड़कों पर खून बहेगा और यह खून कमलनाथ का होगा।“ मीडिया से चर्चा में सिंह ने स्वीकार किया कि उन्होंने मुख्यमंत्री का खून बहाने की बात कही है। वे बोले- “खून चूसने वाले मंत्रियों-अफसरों का खून सड़कों पर बहेगा।“

भाई के बचाव में आई मायावती, भाजपा पर लगाए गंभीर आरोप

इसके पहले उन्होंने (BJP Leader Surendranath Threatens To Kamal Nath) कहा था, “अब गरीब भूखे नहीं मरेगा, बल्कि मारकर मरेगा। कोई भी झुग्गीवासी 200रुपए से ज्यादा बिजली का बिल नहीं भरेगा। यदि हमारे घर में लाइट नहीं होगी तो कमलनाथ के घर में भी लाइट नहीं रहेगी। हम सीएम हाउस और वल्लभ भवन के साथ मंत्रियों के बंगलों की बिजली काट देंगे। हम तो बेरोजगार हो गए हैं, हम रोजाना मंत्री और अफसरों का घर घेरेंगे। यदि पुलिस ने जेल भेजा तो वहां से आकर फिर घेराव करेंगे।“

हालांकि पुलिस ने पूर्व विधायक समेत 10 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मामले में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेशसिंह ने कहा कि पूर्व विधायक की भाषा उचित नहीं है, उन्हें संयम बरतना चाहिए। उल्लेखनीय है कि भाजपा सरकार में विधायक रहते हुए सुरेंद्रनाथ सिंह नगर निगम के कर्मचारियों को थप्पड़ भी मार चुके हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में सुरेंद्रनाथ सिंह, पार्षद जगदीश यादव, दिनेश पांडे, गुड्डा शुक्ला, नरेश यादव, अशोक माली, ज्योति वर्मा, वंदना परिहार, बल्लू पाल, नीकेश श्रीवास्तव सहित अन्य को भी आरोपी बनाया है। करीब दो सप्ताह पहले भी उन्होंने निगम मुख्यालय पर प्रदर्शन किया था, जिस पर निगम प्रशासन ने केस दर्ज कराया था।

बातों में छलका साक्षी के पिता राजेश मिश्रा का दर्द, तोड़ी चुप्पी

इस बारे में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने कहा, “ पूर्व विधायक द्वारा खुलेआम खून बहाने की धमकी देना, कैसा आचरण है। मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव का नाम लेकर वे अमर्यादित टिप्पणी कर रहे हैं। भाजपा संगठन ऐसे लोगों को कब तक संरक्षण देता रहेगा। भाजपा को अपना पक्ष स्पष्ट करना चाहिए।

टीटीनगर पुलिस ने सुरेंद्रनाथ सिंह पर मुख्यमंत्री के खिलाफ बोले अपशब्दों को लेकर नहीं, बल्कि प्रतिबंधित क्षेत्र में घुसने और कलेक्टर का आदेश नहीं मानने पर केस दर्ज किया है।

Share.