website counter widget

पहले भारती से फिर साध्वी से हार, अब दिग्गी राजनीति से बाहर

0

अपने विवादित बयानों (Controversial statements ) के कारण अक्सर चर्चा में बने रहने वाले मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री (Former Chief Minister of Madhya Pradesh ) और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Senior Congress leader Digvijay Singh ) एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं। इस बार वे किसी विवादित बयान के कारण नहीं बल्कि राजनीति से अपने सन्यास को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। पहले भाजपा की उमा भारती (Uma Bharti) और पिछले लोकसभा चुनाव में साध्वी प्रज्ञा (Sadhvi Pragya) से हार के बाद अब उन्होने घोषणा की है कि वे राजनीति को अब अलवीदा कहने वाले हैं। इसी के साथ उन्होने झाबुआ (Jhabua ) से कांग्रेस उम्मीदवार कांतिलाल भूरिया (Congress candidate Kantilal Bhuria ) के संन्यास को लेकर भी बयान दिया।

पाक की बौखलाहट एक बार फिर आई सामने

दिग्गी का राजनीति से सन्यास!

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh ) ने मध्य प्रदेश के अलीराजपुर (Alirajpur ) में एक जनसभा को संबोधित किया, जहां उन्होने राजनीति से अपने सन्यास को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होने कहा कि मैंने और कांतिलाल भूरिया (Kantilal Bhuria) दोनों ने लंबे समय तक राजनीति की है। हम अब उम्र के उस पड़ाव पर पहुंच गए हैं जहां हमें संन्यास ले लेना चाहिए। कांतिलाल भूरिया अपना आखिरी चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होने आगे कहा कि मैंने और कांतिलाल भूरिया दोनों ने बहुत राजनीति की है। हम अब नए लड़कों को तैयार कर रहे हैं, जो हमारे अधीन काम कर रहे हैं (Digvijaya Singh Retire From Politics)। मैंने अपना अंतिम चुनाव लड़ लिया है और अब कांतिलाल भूरिया भी अपना अंतिम चुनाव लड़ रहे हैं।  हर एक वोट को कांतिलाल भूरिया को मिलना चाहिए कि वे आपकी 1980 से सेवा कर रहे हैं।

8 नवंबर को आ रहा है अयोध्या भूमि विवाद पर फैसला!

क्या चुनाव हार रहे हैं भूरिया ?

21 अक्टूबर को झाबुआ विधानसभा सीट पर उपचुनाव होने वाले हैं। कांग्रेस ने इस सीट पर कांतिलाल भूरिया को उतारा है। यूपीए सरकार के दौरान केंद्रीय मंत्री रह चुके कांतिलाल भूरिया के लिए दिग्विजय सिंह प्रचार करने गए थे और उन्होने वहाँ भूरिया के सन्यास पर बयान दे दिया, जिसके बाद लोगों का कहना है कि अब शायद दिग्विजय सिंह भी मान चुके हैं कि उन्हें और भूरिया को राजनीति छोड़ देनी चाहिए (Digvijaya Singh Retire From Politics)। वहीं भाजपा समर्थकों का कहना है कि दिग्विजय सिंह को पहले ही आभास हो गया है कि भूरिया हारने वाले हैं इसीलिए उन्होने प्रचार के दौरान सन्यास की बात कही।

रेल होस्टेस का काम सेल्फी कर रही नाकाम

      – Ranjita Pathare

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.