भाजपा का ऑपरेशन लोटस नाकाम करने में जुटे दिग्विजय सिंह

0

मध्यप्रदेश में भाजपा (BJP) लगातार कांग्रेस की सरकार को गिराने की कोशिशों में लगी हुई है। ऐसे में अब कांग्रेस (Congress)  ने भी अपने विधायकों को रोकने की किलेबंदी (Operation Lotus Flop) शुरु कर दी है। मध्यप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी का ऑपरेशन लोटस फ्लॉप (Operation Lotus Flop) हुआ या सक्सेस। ये सवाल इस वजह से उठा क्योंकि मंगलवार देर रात गुरुग्राम में जबरदस्त सियासी ड्रामा चला। ऐसी खबर आई कि कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government)  को समर्थन दे रहे कुछ विधायकों को एक होटल में जबरन रोक कर रखा गया है। इनमें से एक बीएसपी विधायक (BSP MLA) रामबाई भी थीं, जिन्हें कमलनाथ सरकार में मंत्री जीतू पटवारी (Jitu Patwari)  और जयवर्धन सिंह अपने साथ गुरुग्राम के उस होटल से निकाल कर ले गए। वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Congress Leader Digvijaya Singh) ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने विधायकों को पाला बदलने के लिए 5-10 करोड़ रुपए का ऑफर दिया है। इसके कुछ ही देर बाद दिग्विजय सिंह ने दावा किया कि 6 विधायकों को कांग्रेस ने होटल से निकाल लिया है। बीएसपी (Operation Lotus Flop) विधायक रामबाई को पूरे परिवार सहित पहले ही छुड़ा लिया गया था। सरकार बचाने की मुहिम में शामिल कमलनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री और दिग्विजय सिंह के बेटे ने जयवर्धन सिंह ने कहा कि बीजेपी (BJP) की साजिश नाकाम हो गई है।

BJP विधायक Ramesh Mendola ने कहा- कमलनाथजी म.प्र. को इटली मत बनने दीजिए

क्या है पूरा मामला

दरअसल (Operation Lotus Flop) मध्य प्रदेश के 10 विधायक गुड़गांव से सटे मानेसर के आईटीसी होटल (ITC Hotel)  में ठहरे हुए थे। कांग्रेस का दावा है कि बीजेपी उन्हें धनबल और गुमराह करके लाई थी, ताकि कमलनाथ सरकार अस्थिर हो सके, लेकिन बाद में मध्य प्रदेश सरकार के दो मंत्री जयवर्धन सिंह और जीतू पटवारी के साथ ही कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह वहां पहुंचे और छह विधायकों को वापस ले आए। कांग्रेस का दावा है कि इस पूरे खेल में शिवराज सिंह चैहान (BJP Shivraj Singh Chouhan)  और बीजेपी के तमाम दूसरे नेता शामिल है। अब दिग्विजय सिंह का दावा है कि बाकी 4 विधायकों से भी कांग्रेस संपर्क में है और जल्द ही उनकी वापसी कराई जाएगी। दिग्विजय सिंह (Digviajaya Singh) ने आरोप लगाया, ‘परसो ही मैंने कहा था कि ये लोग 5 करोड़ पहले, 5 करोड़ राज्यसभा चुनाव के दौरान, बाकी सरकार गिराने पर 5 करोड़ देने का वादा किया था। इसका हमारे पास प्रूफ है। विधायकों को धोखा देकर लाया गया था। हमारे दो मंत्री जयवर्धन सिंह और जीतू पटवारी के साथ वहां बीजेपी के लोगो ने गुंडागर्दी की। (Operation Lotus Flop) कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘पैसे का प्रबंध नरोत्तम मिश्रा, रामपाल सिंह, अरविंद भदौरिया और संजय पाठक कर रहे थे। सबको लेकर बैंगलोर जाने की तैयारी थी। बिसाहूलाल सिंह जी और रामबाई तो हमसे संपर्क में ही थे।‘

Delhi Election 2020 : BJP के जख्मों पर पर Shiv Sena ने छिड़का नमक

भाजपा के पास हैं ये चार विधायक

दिग्विजय सिंह (Digviajaya Singh) ने कहा, ‘बीजेपी (BJP) के पास बेहिसाब पैसा है। (Operation Lotus Flop) शिवराज सिंह (Shivraj Singh Chouhan) दिल्ली में हैं और इन विधायकों के साथ उनकी मीटिंग होनी थी। हमारे आने से पहले वो भाग गए। अभी कांग्रेस के तीन और एक निर्दलीय विधायक रह गए है। उनसे भी हमारी कोशिश है कि वापस आ जाएंगे। इसमें रघुराज कंसाना, हरदीप सिंह (Harshdeep Singh) , बिसाहूलाल सिंह और निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शामिल हैं। ये दावा कर रहे थे कि 10-15 विधायक उनके पास है पर ऐसा नहीं है। सब वापस आ गए। उनके पास 4 रह गए है।‘

क्या है विधानसभा का समीकरण

मध्य प्रदेश (Operation Lotus Flop) विधानसभा की स्थिति पर गौर करें तो कुल 230 विधायकों की विधानसभा में से इस वक्त 228 विधायक हैं। दो सीट विधायकों की मौत के चलते खाली हैं। कांग्रेस के इस वक्त 114 विधायक हैं। बीजेपी के 107, दो विधायक बीएसपी के हैं, समाजवादी पार्टी का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं। फिलहाल जादुई आंकड़ा 115 का है, जबकि कांग्रेस को 121 विधायकों का समर्थन हासिल है। फिलहाल कमलनाथ सरकार सुरक्षित है। गुरुग्राम में आधी रात को कांग्रेस ने अपनी सक्रियता से तमाम विधायकों को होटल से निकाल कर संकट को टाल दिया है।

BJP-AAP में रैप बैटल, किसका टाइम आएगा, दिल्ली वाला बताएगा, देखें Video

Rahul Tiwari / Prabhat Jain

Share.