शव को नोंच रही थी चीटियां लेकिन डॉक्टर खड़े देखते रहे

0

शिवपुरी: सुनहरा मध्यप्रदेश(madhya pradesh) के नाम पर प्रदेश भर में जनता की अच्छी देखभाल के वादे करने वाली सरकार के कार्यकाल में जिन्दा आदमी तो संघर्ष करता नजर आ ही रहा है। लेकिन व्यक्ति के मरने के बाद भी उसके शरीर के साथ कुछ ऐसा हो रहा है जो मानवीय संवेदनाओं को शर्मशार करता है। जानकारी के अनुसार शिवपुरी(shivpuri) के जिला अस्पताल में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमे एक व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी उसका शव पांच घंटे तक बिना किसी के देखरेख में पड़ा रहा शव पर चीटियां लग गई उसके बाद भी किसी ने उस पर ध्यान नहीं दिया। डॉक्टरों को धरती का भगवान् कहा जाता है लेकिन उन्ही के द्वारा ये अमानवीय कृत्य किया गया है। इस घटना ने पूरे डॉक्टर समुदाय को शर्मशार कर दिया है।

जानकारी के अनुसार शिवपुरी के फक्कड़ कालोनी में रहने वाले बालचंद्र लोधी को रविवार को पेट में तकलीफ के चलते जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिवार में पत्नी और दो छोटे बच्चे हैं। इसलिए पत्नी सोमवार की रात बच्चों की देखभाल के लिए घर चली गई। वार्ड में भर्ती मरीज अशोक राठौर ने बताया की बालचंद्र के शरीर से सुबह 6 बजे से कोई हरकत नहीं दिख रही थी। सुबह 8 :30 बजे मरीजों के पर्चे देने के लिए आई नर्स से मैंने बताया की वह ऐसे ही पड़ा है लेकिन नर्स दूर से देखकर चली गई। उसके बाद 9 :30 बजे भी एक नर्स आई उसे भी मैंने बताया लेकिन वह भी दूर से देखकर चली गई। और तो और 10 बजे मरीजों को देखने आये डॉक्टर दिनेश राजपूत भी दूर से देखकर चले गए।

मृतक पड़े बालचंद्र के शव पर किसी को ध्यान न देते हुए देख एक मरीज ने उनकी पत्नी रामश्री बाई को फोन किया जिसके बाद मृतका की पत्नी ने शव में लगी चीटियों को हटाया और बिलखते हुए रोने लगे की कम से कम कपडे से ढक तो देते। इस घटना के बाद सीएमएचओ डॉ. एएल शर्मा ने कहा की इस प्रकार का अमानवीय कृत्य क्षमा योग्य नहीं है दोषियों के खिलाफ कार्यवाई की जायेगी।—

-Mradul tripathi

 

Share.