मानवाधिकार आयोग और महिला आयोग पर गंभीर आरोप

0

लोकसभा चुनाव में भोपाल से भाजपा की प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Bhopal BJP Candidate Pragya Singh Thakur) अबने बडबोले पण के कारण अक्सर परेशानियों में घिर जाती हैं| पहले हेमंत करकरे को शाप देने वाले बयान को लेकर उनकी खूब किरकिरी हुई थी| बाद में कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजयसिंह पर टिप्पणी और बाबरी मस्जिद को लेकर दिए अपने बयान को लेकर चुनाव आयोग ने उन पर प्रचार करने पर 72 घंटे का बैन लगा दिया था| अब वे फिर एक बयान को लेकर चर्चा का विषय बन चुकी हैं| इस बार उन्होंने मानवाधिकार आयोग (Human Rights Commission) और महिला आयोग (Women’s Commission) पर गंभीर आरोप लगाए हैं |दरअसल, लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भोपाल से भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मानवाधिकार आयोग एवं महिला आयोग पर आरोप लगाया है कि जब वे परेशान थी और मालेगांव मामले में जेल में यातनाएं सह रही थीं, उस समय उनके मामले में इन संस्थाओं ने इसलिए रुचि नहीं ली क्योंकि वे हिंदू थीं।

Lok Sabha Election 2019 Phase 5 Polls Live Updates : अब तक 24% मतदान, राहुल पर बूथ कैप्चरिंग का आरोप

एक अखबार को दिए इंटरव्यू में साध्वीर प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Singh Thakur) ने कहा, “मानवाधिकार आयोग या महिला आयोग ने मेरे मामले में कोई रुचि नहीं दिखाई, क्योंकि मैं हिंदू थी। मेरा अनुभव है कि हिंदुओं के अधिकार की बात करने वालों के लिए मानवाधिकार आयोग या महिला आयोग की कोई सहानुभूति नहीं होती। 2008 की एक घटना याद आती है। किसी मीडिया ने कोर्ट में सुनवाई पर जाते वक्त एक महिला पुलिसकर्मी से मुस्कुराकर बात करते हुए मेरा फोटो प्रसारित किया था। तब महिला आयोग की अध्यक्ष गिरिजा व्यास ने बयान दिया था कि मैंने प्रज्ञा को टीवी पर देखा है वो ठीक है और उसे किसी तरह की परेशानी नहीं है। यह अमानवीयता की पराकाष्ठा थी, लेकिन यह सब मान्य रहा है।“

VIDEO : बूथ पर हाथ पकड़कर जबरदस्ती वोट दिलवा रही कांग्रेस!

प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर दावा करतीं हैं कि एटीएस की कस्टडी के दौरान 24 दिन तक उन्हें  अमानवीय यातनाएं दीं गईं। अजीब बात यह है कि यातनाओं की पुष्टि न तो मेडिकल रिपोर्ट में हुई और न ही न्यायालय में शिकायत के बाद हो पाई। मानवाधिकार आयोग एवं महिला आयोग ने भी कहा कि प्रज्ञा ठाकुर को यातनाएं नहीं दी गईं परंतु प्रज्ञा ठाकुर का दावा है कि सारी सरकारी और गैर सरकारी एजेंसियां गलत हैं। उनका सच इसलिए प्रमाणित नहीं हुआ क्योंकि वो हिंदू थीं।अब उनका यह बयान उन्हें किसी परेशानी में डाल देगा या वे इससे भी बच निकलेंगी, यह तो आने वाला समय ही बताएगा |

TMC- BJP कार्यकर्ताओं में झड़प, तोड़ी EVM और फिर….

Share.