website counter widget

हार पर कांग्रेस की मंथन बैठक, कई दिग्गज नदारद

0

उत्तरप्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से मात्र 1 सीट जीतने वाली कांग्रेस सरकार ने शुक्रवार को हार का मंथन करने  के लिए उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में समीक्षा बैठक (Congress Review Meeting In Lucknow) की। बैठक में कांग्रेस के वरिष्ट नेताओं की नामौजूदगी ही कार्यकर्ताओं का कांग्रेस के प्रति अविश्वास ज़ाहिर कर रही थी। बैठक के दौरान कांग्रेस के एक दिग्गज नेता ने पश्चिमी यूपी के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने खूब खरी-खरी सुनाई।

मध्यप्रदेश के छतरपुर में बच्चे का कटा सिर मिला

बैठक में वरिष्ठ नेता ने (Congress Review Meeting ) कहा, “जिस सेना का सेनापति कन्फ्यूज होता है, वह सेना हार ही जाती है, महाराज। हमारे सेनापति आखिर तक यह तय नहीं कर पाए कि कार्यकर्ताओं को लड़ाना है या पैराशूट प्रत्याशियों को। यही कन्फ्यूजन पार्टी की इस बुरी हार का कारण बना। पार्टी की मजबूती के लिए अब प्रयोग बंद कीजिए”।

बैठक के दौरान ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया (Congress’s brainstorming meeting) के अलावा, सचिव रोहित चौधरी और प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर मौजूद थे , लेकिन पार्टी के कई वरिष्‍ठ नेताओं ने इस बैठक से किनारा कर लिया।

ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को क्यों सुनना पड़ा?

पत्नी ने तांत्रिक से नहीं बनाया संबंध तो गुस्साए पति ने मार डाला

समीक्षा बैठक (Congress’s brainstorming meeting) में सबसे ज़्यादा खिंचाई ज्योतिरादित्य सिंधिया की हुई, उसका कारण था उनका पश्चिमी यूपी से कांग्रेस का प्रभारी होना। दरअसल, कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभार में उत्तरप्रदेश की 39 सीटें आती हैं। इन सभी सीटों पर कांग्रेस का प्रदर्शन काफी बेकार रहा और पार्टी एक भी सीट जीतने में सक्षम नहीं रही। इसके अलावा कहीं न कहीं कांग्रेस का विश्वास ज्योतिरादित्य सिंधिया से इसलिए भी हट गया क्योंकि मध्यप्रदेश की लोकसभा सीट में उनका गढ़ माने जाने  वाली सीट गुना से भी वह हार गए।

39 में से 14 सीटों की समीक्षा पहले

पिछले कुछ दिनों में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने प्रभार की 39 में से 14 सीटों की समीक्षा की थी। बाकी 25 सीटों की समीक्षा के लिए कांग्रेस नेताओं, प्रत्याशी, जिला और शहर अध्यक्षों को लखनऊ बुलवाया गया।

बैठक में अनुपस्थित कांग्रेस नेताओं में जितिन प्रसाद, इमरान मसूद, सलमान खुर्शीद और श्री प्रकाश जायसवाल शामिल थे। कई कांग्रेस नेताओं ने दावा किया कि दिल्‍ली-एनसीआर के नजदीक के प्रत्‍याशियों (Congress’s brainstorming meeting) को दिल्‍ली में एक अन्‍य मीटिंग में हिस्‍सा लेना था, इसलिए वे नहीं आए हैं।

Video : कांग्रेस नेता के भाई ने महिला पर चलाए लात-घूंसे

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.