करंट की चपेट में आने से बच्ची की मौत, मां घायल

0

मप्र के भोपाल (Bhopal News) से एक बुरी खबर सामने आ रही है| यहां हुए एक हादसे में एक मासूम की दर्दनाक मौत (Innocent Died Due To Current In Bhopal ) हो गई| इस हादसे के बाद पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई | पुलिस मामले की जांच कर रही है| जिम्मेदारों की जानकारी जुटाई जा रही है|

रातोंरात किए 21 आईएएस अफसरों के तबादले

दरअसल, भोपाल में स्मार्ट सिटी रोड के पास स्थित गंगा नगर बस्ती में एक ढाई साल की मासूम की करंट की चपेट में आने से मौत (Innocent Died Due To Current In Bhopal ) हो गई। दरअसल, टिन की चद्दर से बने दरवाजे में फैले करंट से अनजान मासूम ने जैसे ही दरवाजे को पकड़ा तो वह तड़पने लगी। बेटी को तड़पते देख मां ने जान की परवाह किए बिना उसे खींचा तो वह भी करंट की चपेट में आ गई।

शोर सुनकर दोनों को बचाने आए दादा को भी करंट लग गया, लेकिन बाद में उन्होंने कपड़े में लपेटकर दोनों को खींच लिया।

यह दर्दनाक हादसा गंगानगर बस्ती में रहने वाले अनवर खान (Anwar Khan) की ढाई साल की बेटी सायबा (Saiba Khan) के साथ रविवार शाम करीब साढ़े चार बजे हुआ (Innocent Died Due To Current In Bhopal )। अनवर यहां चार बच्चों सना, साहिल, सायबा, सबा और पत्नी शबनम (Shabnam) के साथ रहते हैं। अनवर ने बताया कि रविवार दोपहर सायबा अपने मामू खुर्शीद के साथ बस्ती में खेल रही थी। वह मामा से बोली- टॉयलेट जाना है।

शिवराज सरकार के एक फैसले को बदलने पर आमादा

खुर्शीद ने उसे यह कहते हुए घर भेज दिया कि वहां अम्मी होंगी। मां को बताए बगैर सायबा ने टिन की चद्दर से बने दरवाजे को जैसे ही छुआ, वह तड़पने लगी। बेटी को बचाने पहुंचीं शबनम भी करंट की चपेट में आ गई। शोर सुनकर पास के मकान में मौजूद दादा इस्लाम भी आए तो करंट ने उन्हें भी झटका दिया। इसके बाद उन्होंने गमछे में लपेटकर दोनों को दरवाजे से दूर खींच लिया। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने मासूम को मृत घोषित कर दिया।

16 जून को शबनम की छोटी बहन का निकाह उप्र के रायबरेली में होना तय है। बड़ी बहन को साथ ले जाने के लिए खुर्शीद रविवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे गंगा नगर बस्ती आए थे।

मामले की सूचना मिलने पर श्यामला हिल्स पुलिस भी पहुंच गई। उन्होंने देखा कि बिजली का एक नंगा तार टिन के दरवाजे को छू रहा था। यही वजह थी कि दरवाजे में करंट  फैला था। अनवर और परिवार ने पुलिस से गुजारिश की कि रमजान का महीना चल रहा है। ये एक हादसा है इसलिए हम नहीं चाहते कि मासूम का पोस्टमार्टम करवाया जाए। पुलिस ने लीगल ओपीनियन लेने के बाद बगैर पीएम करवाए ही शव परिवार को सौंप दिया।

कमलनाथ सरकार को कोई ख़तरा नहीं

Share.