IPS Meet 2020 : आईपीएस ऑफिसर जब स्टेज पर उतरे अलग किरादर में

0

भोपाल के मिंटो हॉल में कल से दो दिवसीय आईपीएस मीट कानक्लेव 2020 (IPS Meet 2020)  शुरू हुआ। इस कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath)  ने किया। इसमें प्रदेशभर के आईपीएस ऑफिसर शामिल हुए। आईपीएस मीट 2020 (IPS Meet 2020) के पहले दिन आईपीएस अधिकारियों ने अपने परिवार के साथ खूब एंजॉय किया। सुबह मोतीलाल नेहरू स्टेडियम (Motilal Nehru Stadium) पर आईपीएस अधिकारियों के बीच हुए क्रिकेट मैच में जमकर चौके-छक्के जड़े तो शाम को इंदौर के आईपीएस अधिकारियों (IPS employees)  ने ओम शांति ओम फिल्म (Om Shanti Om Movie)  के टाइटल सांग पर डांस किया।

Fluxus @ IIT Indore में ज़ाकिर खान और सलीम -सुलैमान की स्टेज तोड़ परफॉरमेंस

वहीं भोपाल (IPS Meet 2020) के पुलिस अधिकारियों ने ‘तंदूरी चिकन विथ रसोगुल्ला’ नाटक पर प्रस्तुति दी। इसमें एक साउथ इंडियन युवक का विवाह बंगाली युवती से होने की कहानी बताई गई। ग्वालियर (Gwalior) के अधिकारियों ने सेर पर सवा सेर नाटक पर अपनी प्रस्तुति दी। इसी तरह इंदौर के आईपीएस अधिकारियों ने आईपीएस अधिकारी बनने की कहानी को नाटक के जरिए बताया। उन्होंने भगोरिया नृत्य पर भी प्रस्तुति दी। इसी तरह जबलपुर के अधिकारियों ने कलयुग-सतयुग नाटक का मंचन किया।

Indore : भूमाफिया बॉबी छाबड़ा को पुलिस ने किया गिरफ्तार

शुभारंभ (IPS Meet 2020) के साथ ही प्रदेश में पुलिस कमिश्नर सिस्टम (Police Commissioner System) लागू करने की मांग उठी तो सीएम ने कहा अभी आपका ये प्रस्ताव एक्सेप्ट नहीं किया है लेकिन इसे रिजेक्ट भी नहीं किया गया है. उन्होंने पुलिस अधिकारियों से कहा आप अपनी यूनिफॉर्म की रिस्पेक्ट करें क्योंकि इससे बढ़कर कुछ भी नहीं है.

भोपाल में हो रही इस IPS मीट (IPS Meet 2020) में प्रदेश भर के आईपीएस अफसर आए हैं. मीट में अपनी स्पीच में एपी आईपीएस एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय यादव ने प्रदेश में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू (Police Commissioner System imposed) करने की मांग सीएम के सामने रखी. उन्होंने कहा पुलिस का काम बहुत टफ है. एमपी में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लाना जरूरी है.

सीएम कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) ने एसोसिएशन की मांग पर जवाब दिया कि मप्र में पुलिस कमिश्नर सिस्टम (Police Commissioner System) अभी एक्सेप्ट नहीं किया है. (IPS Meet 2020) लेकिन इसे फिलहाल रिजेक्ट भी नहीं किया गया है. उन्होंने भरोसा दिलाया कि प्रदेश में पुलिस फोर्स को आधुनिक तकनीक से लैस किया जाएगा. मध्यप्रदेश में कई स्तर पर चुनौतियां हैं.ग्वालियर, चंबल, विंध्य क्षेत्र में काफी चुनौतियां हैं.आज के दौर में अपराधी क्राइम के नये-नये तरीके ढूंढ़ रहे हैं. इंटरनेट के दौर में क्राइम के तरीके भी बदल गए हैं.आज से तीस साल पहले चिटफंड जैसी शिकायतें सुनने नहीं मिलती थीं.इसलिए पुलिस को आधुनिक औऱ हाईटेक तकनीक से लैस करने की जरूरत है.सरकार मप्र पुलिस को हाईटेक औऱ तकनीक से लैस करने के लिए फंडिग करेगी ताकि दूसरे प्रदेशों की तुलना में मध्यप्रदेश पुलिस सबसे आगे रहे. टेक्नालॉजी के मामले में मप्र पुलिस दूसरे राज्यों की पुलिस को ट्रेनिंग दे.

IPS ऑफिसर्स मीट (IPS Meet 2020)  में डीजीपी वीके सिंह (DGP VK Singh) ने कहा पुलिस की स्थित बहुत अच्छी नहीं है.पुलिस को आज ना सिर्फ मानसिक रूप से बल्कि शारीरिक रूप से सरंक्षण की जरूरत है. पुलिस सरकार का चेहरा होती है. उन्होंने आईफा समारोह एमपी में कराने के लिए सीएम कमलनाथ की तारीफ की.

आपको बता दें कि बरसों पुरानी है मांग मध्यप्रदेश के दो बड़े शहरों भोपाल औऱ इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने की मांग काफी समय से उठ रही है. सरकार बदलने के बाद फिर इस मांग ने ज़ोर पकड़ा. कयास लगाए गए कि 15 अगस्त को इसकी घोषणा होगी. फिर बात 26 जनवरी पर चली गयी. लेकिन सरकार ने अभी तक इसकी घोषणा नहीं की है. पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने प्रस्ताव कई बार गृह विभाग को भेजा जा चुका है.

Indore के धरमपुरी स्थित Power House में लगी भीषण आग

-मृदुल त्रिपाठी

Share.