धनतेरस पर कमलनाथ के प्रदेश में मोदी सिक्कों की खनक

0

भोपाल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आये दिन दुनिया के किसी न किसी कोने में देखे जाते है। पर अब दीपावली(Diwali) के पावन पर्व पर बाजार में भी नजर आने लगे हैं (Modi Silver Coin In Bhopal Market)। पहली बार बाजार में चांदी के रंगीन सिक्कों पर मोदी(PM Narendra Modi)  जी छाए हुए हैं। आयताकार आकर के इन चांदी के सिक्कों की जोरदार बिक्री हो रही है। इसके अलावा इस बार एक हजार रुपये के चांदी के नोट के बजाय दो हजार रुपये का रंगीन नोट भी बाजार में आया है। वैसे रिवाज है की धनतेरस (Dhanteras) पर अपने जीवन को धन धान्य करने के लिए लोग कुबेर(Kuber) और माँ लक्ष्मी की पूजा आराधना करते है। और इस दिन कुछ न कुछ बाजार से खरीदते है जैसे माँ लक्ष्मी और गणेश की आकृति बनी हुई चांदी का सिक्का या सोने का सिक्का(Gold And Silver) खरीदते है इस दिन ऐसा करना शुभ माना जाता है। लेकिन इस बार मोदी सिक्कों की भारी डिमांड है बाजार में महंगाई को देखते हुए हल्की चांदी वाले ये खास सिक्के खूब बिक रहे हैं.

पहले दगा, अब सता के लिए भाजपा बनी मां  

जानकारी के अनुसार जनता की विशेष डिमांड पर धनतेरस पर इस बार बाजार में मोदी सिक्के भी मिल रहे हैं. चांदी के बने इन सिक्कों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की तस्वीर है. सोने-चांदी के सिक्कों के साथ चांदी के इन मोदी सिक्कों को लोगों के द्वारा खूब ख़रीदा जा रहा है. ये खास मोदी सिक्के 20 ग्राम, 10 ग्राम और 5 ग्राम के आकार में ज्वेलर्स की दुकानों पर उपलब्ध हैं. 10 ग्राम सिक्के की कीमत लगभग 300 और 20 ग्राम सिक्के की कीमत 600 रुपये बताई जा रही है। परंपरागत गोल सिक्कों के अलावा इसबार ओवल शेप, चौकोर, हार्ट शेप, कलश के आकार में भी सिक्के मौजूद हैं। इसके अलावा मोदी जी की तस्वीर बने हुए चांदी के रंगीन  2000 और 500 के नोट भी बाजार में खूब बिक रहे है (Modi Silver Coin In Bhopal Market)। जिनकी कीमत लगभग 300 रुपये है। चांदी के नोट बाजार में कई वर्ष से हैं लेकिन पहली बार रंगीन नोट बाजार में आया है।

मोदी के मुरीद ने छाप दिए चांदी के नोट पर मोदीजी

इस बार दिवाली तब आई है जब देश की अर्थव्यवस्था कुछ ठीक नहीं है। और बाज़ार पर महंगाई छाई हुई है लोग कोई भी सामान खरीदने में 10 बार सोच रहे है। इसलिए बाज़ार में हल्के वजन के के चांदी के सिक्के लाये गए जिनको लोग काम कीमत में आसानी से खरीद सके। जिससे उनकी खरीददारी भी हो जाए और जेब पर अधिक वजन भी नहीं पड़े।

देवर ने भाभी को 10 दिनों तक बनाया हवस का शिकार

-Mradul tripathi

Share.