यूरिया की एक-एक बोरी के लिए अन्नदाता जान जोखिम में डाल रहे है: देखें video

0

भोपाल: आजकल प्याज की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है प्याज ऐसी चीज है जिसकी जरूरत अधिकतम पकवान बनाने में होती है और आदमी को प्याज ख़रीदना ही पड़ता है चाहे कितनी भी महंगी हो। लेकिन इसके बाद अब मध्यप्रदेश से एक नई तस्वीर सामने आई है. जिसमे किसान यूरिया की एक-एक बोरी के लिए लड़-झगड़ रहे है. ये वीडियो खुद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर किया है जिसमे लिखा है “दुखद और शर्मनाक भी! यूरिया (Urea Shortage) की एक-एक बोरी के लिए प्रदेश के अन्नदाता को अपने प्राणों की बाजी लगानी पड़ रही है। क्या कांग्रेस सरकार ने इसी बदलाव की बात की थी? हाय लगेगी! किसानों की हाय से नहीं तो कम से कम ऊपर वाले के प्रकोप से डरो कमलनाथ! उसकी लाठी बेआवाज होती है”

यूरिया की एक-एक बोरी के लिए अन्नदाता जान जोखिम में डाल रहे है: देखें video

आपको बता दें की यूरिया को लेकर प्रदेश में सियासत तेज हो गई है। किसान यूरिया के लिए दर दर भटक रहा है। जबकि प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) को चेतावनी दी है कि या तो किसानों को यूरिया दो या फिर गिरफ्तार करो. साथ ही उन्‍होंने ऐलान किया है कि किसानों के लिए किसी भी सीमा तक जाकर लड़ाई लड़ी जाएगी. पहले से ही कांग्रेस सरकार में किसान परेशान हैं और अब यूरिया ने उनका बेहाल कर दिया है. जबकि सरकार यूरिया की आवाज उठाने वालों पर दबाव बना रही है.

मोदीजी ने स्कूल के बच्चों ये क्या मांग लिया ?

यूरिया को लेकर प्रदेश भर में किसान धरना दे रहे हैं. यही नहीं, सागर जिले में किसान लगातार दो दिनों से चक्काजाम कर रहे हैं. जबकि नरयावली विधायक प्रदीप लारिया (Naryawali MLA Pradeep Lariya) सिविल लाइन चौराहे पर किसानों के साथ सड़क पर चक्काजाम में बैठे थे, लिहाजा उनके खिलाफ मकरोनिया थाने में एफआईआर दर्ज हुई है. इस पर पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यूरिया दो या तो गिरफ्तार करो. विधायक के साथ मैं भी गिरफ्तारी देने जाऊंगा. वही खाद की किल्लत पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने ट्वीट कर कांग्रेस सरकार पर हमला बोला है उन्होंने लिखा है ‘सागर में यूरिया (Urea Shortage) के लिए किसानों की आवाज उठाने वाले बीजेपी विधायक प्रदीप लारिया पर मुकदमा दर्ज कर प्रदेश सरकार किसानों की आवाज नहीं दबा सकती है. सड़क और विधानसभा में कांग्रेस सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है. यकीनन जो प्रदेश सरकार की विफलताओं के खिलाफ आवाज उठाता है, उसकी आवाज दबाई जा रही है.

अब दामाद और बहू को भी रखना होगा सास ससुर का ख्याल, वरना होगी जेल

-Mradul tripathi

 

Share.