डीआईजी ने हरी झंडी दिखाई, बाइक स्टार्ट नहीं

0

प्रदेश में अपराधों से निपटने के लिए पुलिस महकमे में सिपाहियों की ताकत बढ़ाने का प्रयास किया गया है। प्रदेश के सभी जिलों में पुलिसकर्मियों को शासन द्वारा डायल-100 बाइक एफआरवी उपलब्ध करवाई गई है, जिनकी मदद से वे कम से कम समय में कहीं भी पहुंच सकेंगे। इंदौर में भी इन गाड़ियों को हरी झंडी दिखाने के लिए पुलिस विभाग के मुखिया डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र पहुंचे थे, लेकिन उनके सामने ही इस व्यवस्था की कलई खुल गई। इंदौर में पहले ही दिन पुलिस विभाग की ये गाड़ियां स्टार्ट नहीं हुई। बाद में सिपाहियों ने धक्का लगाकर बाइक को स्टार्ट किया। इन गाड़ियों में सेल्फ स्टार्ट होने के कारण किक भी नहीं है, जिसके बाद कुछ गाड़ियों को बैटरी से करंट देकर स्टार्ट करना पड़ा।

आम नागरिकों को किसी भी प्रकार की समस्या होने पर समय पर सहायता पहुंचाने के उद्देश्य से राज्य स्तरीय पुलिस की डायल-100 सेवा की तरह ही डायल-100 बाइक एफआरवी के तहत इंदौर के विभिन्न थानों को 14 बाइक आवंटित की गई हैं। इन्हें बुधवार को डीआईजी द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। ये बाइक शहर के विभिन्न थानों पलासिया, परदेशीपुरा, बाणगंगा, हीरानगर, विजय नगर, एमआईजी, खजराना, लसुड़िया, आज़ाद नगर, भंवरकुआं, चंदन नगर, राजेन्द्र नगर, द्वारकापुरी, जहां पर ज्यादा शिकायतें आती है, उन थाना क्षेत्रों में कार्य करेंगी।

डायल-100 बाइक एफआरवी की तरह ही यह बाइक भी शिकायतें या सूचनाएं प्राप्त होने पर तत्काल मौके पर पहुंचकर पीड़ित की सहायता करने का प्रयास करेगी। विशेष तौर पर इन गाड़ियों द्वारा शहर की उन तंग गलियों आदि में भी तत्काल पुलिस पहुंचेगी, जहां डायल-100 की चार पहिया गाड़ी को पहुंचने में परेशानी होती थी। ये मोटर साइकिलें आधुनिक उपकरणों जैसे मोबाइल, जीपीएस आदि से लैस हैं, जिस पर हर समय संबंधित थाना क्षेत्र के 2 पुलिसकर्मी रहेंगे, जो प्राप्त होने वाली आमजन की शिकायतों का कम से कम समय में समाधान करने का प्रयास करेंगे।

भय्यू महाराज की पत्नी ने सेवादार पर लगाए आरोप

2 करोड़ की ठगी : वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होंगे बयान

सोशल मीडिया पर इंदौर में जीत की घोषणा !

Share.