प्रेस वार्ता में शिवराज के निशाने पर कांग्रेस

1

मध्यप्रदेश में मतदान के बाद से लगातार ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कांग्रेस सवाल उठाती रही है। इसके बाद कांग्रेस ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह द्वारा कैबिनेट बैठक बुलाए जाने पर भी बवाल मचाया। इन सभी आरोपों के जवाब में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह पहली बार सामने आए। शिवराजसिंह चौहान ने पहली बार प्रेसवार्ता आयोजित कर सभी आरोपों का जवाब दिया।

शिवराजसिंह ने अपनी प्रेसवार्ता में कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने चुनावों को मज़ाक बनाकर रख दिया है। कांग्रेस को चुनाव आयोग पर भी विश्वास नहीं है। शिवराजसिंह ने प्रदेश की कैबिनेट बैठक के बाद प्रेसवार्ता की और कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस बेबुनियाद आरोप लगा रही है। चुनाव परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे, लेकिन कांग्रेस उसके पहले ही बौखला गई है। आगे मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक चुनाव परिणाम घोषित नहीं हो जाते, तब तक हमारी जिम्मेदारी है कि आम जनता को कोई समस्या नहीं हो, लेकिन फिर भी यदि किसी को कोई समस्या होती तो है तो आचार संहिता के दायरे में रहकर हमें उसका समाधान ढूंढना चाहिए। हम परिणाम घोषित होने तक कोई नीतिगत फैसला नहीं ले सकते, लेकिन अधिकारियों को बुलाकर समस्याओं पर चर्चा कर उसका समाधान तो खोज सकते हैं।

आगे मुख्यमंत्री ने कहा कि बैठक को लेकर कांग्रेस ने जो हंगामा मचाया, उसकी कोई आवश्यकता नहीं थी क्योंकि हमारी पार्टी कोई भी असंवैधानिक कार्य नहीं कर रही है। वहीं ईवीएम को लेकर मुख्यमंत्री ने कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि यह कोई खेल नहीं है, लोकतंत्र है। ऐसे आरोप लगाना लोकतंत्र में चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाना है। हमें चुनाव आयोग पर पूरा भरोसा है। जहां-जहां शिकायतें आ रही हैं, वहां चुनाव आयोग कार्रवाई करे।

हम राजस्थान में पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएंगे : शाह

Video: ईवीएम के बाद डाक मतपत्र पर विवाद

राहुल गांधी फिर हुए ट्रोल

Share.