प्रदेश के 1700 स्कूल ब्लॉक

0

मध्यप्रदेश के 1700 प्राइवेट स्कूलों को माध्यमिक शिक्षा मंडल ने वेबसाइट से हटा दिया है। इससे प्रदेश के लगभग चार लाख छात्र-छात्राओं की पढ़ाई पर संकट आ गया है| साथ ही नियमित परीक्षा फॉर्म भी नहीं भर सकेंगे। दरअसल, माशिमं द्वारा कई अवसर देने के बावजूद इन स्कूलों ने पिछले कई वर्षों से संबद्धता शुल्क जमा नहीं किया। हालांकि माशिमं ने संबद्धता शुल्क जमा करने की अंतिम तारीख 12 अगस्त तक बढ़ा दी है।

माशिमं का कहना है कि स्कूल संचालक जैसे ही शुल्क जमा करेंगे, वैसे ही स्कूल का नाम वेबसाइट पर अपलोड हो जाएगा। वहीं प्राइवेट स्कूलों का कहना है कि माशिमं ने संबद्धता शुल्क में बढ़ोतरी कर दी। जिसकी सूचना निजी स्कूल संचालकों को नहीं दी गई है।

गौरतलब है कि स्कूलों में दाखिले का दौर चल रहा है। 31 जुलाई तक नामांकन होंगे। 1700 स्कूलों की संबद्धता समाप्त होने से इनमें पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का भविष्य अंधकार में है। अगर स्कूल समय रहते संबद्धता शुल्क जमा नहीं करते हैं, तो सभी छात्र नियमित पढ़ाई करने के बावजूद अनियमित हो जाएंगे।

स्कूल संचालकों का कहना है कि माशिमं ने नोटिस दिए बगैर स्कूलों की संबद्धता समाप्त कर दी है। प्रदेश में करीब 60 हजार निजी स्कूल हैं। इनमें से भोपाल के 20 स्कूलों सहित 1700 स्कूलों के नाम माशिमं की सूची से हटा दिए हैं। हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी तक की संबद्धता के लिए मंडल में 4200 रुपए जमा करने पड़ते थे, लेकिन अब मंडल ने राशि बढ़ाकर बारह हजार रुपए कर दी है। मंडल ऐसे स्कूलों से भी बढ़ा हुआ शुल्क ले रहा है, जिनकी संबद्धता साल 2018-19 तक है।

यह खबर भी पढ़े – शिवराज ने जाहिर किया राजा-महाराजा न होने का दुःख 

यह खबर भी पढ़े – वीडियो: अब मध्यप्रदेश का बदहाली गान हुआ वायरल

यह खबर भी पढ़े – भाजपा विधायक के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

Share.