मोदी सरकार को पूर्व प्रधानमंत्री ने बताया फेल

0

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहनसिंह ने एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने सरकार के कामकाज पर चुप्पी तोड़ते हुए इसे सभी मोर्चों पर विफल बताया। उन्होंने कहा कि अब देश में वैकल्पिक विमर्श पर गौर करने और अपनाने की जरूरत है। डॉ. सिंह ने कहा कि इस सरकार में किसान और नौजवान परेशान हैं, वहीँ दलितों एवं अल्पसंख्यको में असुरक्षा का माहौल है। डॉ. मनमोहनसिंह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल की पुस्तक ‘शेड्स ऑफ ट्रुथ’ के विमोचन के मौके पर बोल रहे थे। उन्होंने पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के साथ इस पुस्तक का विमोचन किया।

पूर्व प्रधानमंत्री ने पुस्तक की सराहना की और कहा कि , यह पुस्तक कपिल सिब्बल के अनुभव और ज्ञान का परिणाम है। अच्छी तरह शोध करने के बाद इसे लिखा गया है।  पुस्तक में मोदी सरकार के  कामकाज का समग्र विश्लेषण है। जिससे सरकार की नाकामियां उजागर होती हैं। यह बताती है कि इस सरकार ने जो वादे किए, पूरे नहीं किये।  उन्होंने कहा, “देश में कृषि संकट है। किसान परेशान हैं और आंदोलन कर रहे हैं। युवा दो करोड़ रुपये नौकरियों का इंतजार कर रहे हैं। औद्योगिक उत्पादन और प्रगति थम गई है, लेकिन सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है।”

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि आज विश्वविद्यालयों में माहौल पढ़ाई के अनुकूल नहीं है। यहां का वातावरण खराब किया जा रहा है। शैक्षणिक आजादी पर अंकुश लगाया जा रहा है।  ऐसे में देश को वैकल्पिक विमर्श पर गौर करना चाहिए।

नोटबंदी गलत निर्णय- डॉ.सिंह

इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री ने नोटबंदी को लेकर सरकार को कटघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि, नोटबंदी और गलत ढंग से लागू की गई जीएसटी की वजह से कारोबार पर असर पड़ा। इसके चलते व्यापारी और आम लोग सबसे ज्यादा परेशान हुए। सरकार द्वारा कालाधन को लाने के लिए कुछ नहीं किया गया।  विदेश नीति के मोर्चे पर भी सरकार विफल रही।

Share.