#MeToo में फंसे एमजे अकबर पटियाला हाउस कोर्ट में पेश

1

देश में #मीटू अभियान में कई बड़ी-बड़ी हस्तियों के नाम सामने आने के बाद हड़कंप मच गया| एक के बाद एक कई महिलाओं ने खुलकर इस अभियान के बारे में आपबीती बताई| ऐसे ही पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर भी कई महिला पत्रकारों ने आरोप लगाए| अब इस मामले में आज वे कोर्ट में पेश हुए, जहां उनके और पत्रकार प्रिया रमानी के मामले दर्ज हुए| दरअसल, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज करवाया था| इस मामले की अगली सुनवाई 12 नवंबर को होगी|

जानकारी के अनुसार, बुधवार को एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल की अदालत में एमजे अकबर का पूरा बयान दर्ज करवाया गया| उन्होंने अपने उपर लगे आरोपों को नकारा और कहा कि प्रिया रमानी के खिलाफ मैंने मानहानि का केस किया है| उन्होंने मेरे ऊपर आरोप लगाते हुए कई ट्वीट किए थे| उन्होंने कहा, “बतौर पत्रकार मेरा करियर काफी लंबा रहा है, मैं काफी छोटी उम्र में ही संडे गार्जियन (कोलकाता) का एडिटर बन गया था| मैंने दैनिक अखबार ‘टेलिग्राफ’ से करियर की शुरुआत की| 1993 में एशियन एज का एडिटर बना और उसके बाद मैं संडे गार्जियन का एडिटर बन गया|”

उन्होंने कहा कि रमानी द्वारा 10 और 13 अक्टूबर को किए गए ट्वीट पर मानहानि का केस किया है| इन ट्वीट्स को कई अखबारों और वेबसाइटों ने छापा| उनके द्वारा जो आर्टिकल लिखा गया था, उसमें मेरा नाम नहीं था| उनका कहना है कि उनके खिलाफ झूठी कहानियों की एक श्रृंखला एक एजेंडे की पूर्ति के लिए प्रेरित तरीके से प्रसारित की जा रही है| अब इस मामले में अगली सुनवाई 12 नवंबर को की जाएगी|

गौरतलब है कि एमजे अकबर पर लगे आरोपों के कारण उन्हें केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था| इस्तीफे में उन्होंने कहा था कि उन्होंने न्याय के लिए व्यक्तिगत तौर पर केस दायर किया है| इसलिए अपने पद से हटकर खुद पर लगे झूठे आरोप का सामना करना चाहते हैं|

बड़ी खबर: #metoo में फंसे एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा

OMG : एमजे अकबर के खिलाफ #METOO में महिलाओं की बढ़ती लिस्ट

Share.