एंटीगुआ से वापस नहीं लौटेगा मेहुल चौकसी, जानिए क्यों?

0

पीएनबी बैंक में लगभग साढ़े चौदह हज़ार करोड़ रुपए का घोटाला कर विदेश भागने वाला मेहुल चौकसी अब शायद भारत नहीं आ पाएगा| सूत्रों के अनुसार, एंटीगुआ सरकार ने चोकसी को भारत भेजने से इनकार कर दिया है| यदि चोकसी भारत नहीं आता है तो आम आदमी का हजारों करोड़ रुपया पानी में डूब जाएगा| एंटीगुआ सरकार ने जो सवाल पूछे हैं, उनका जवाब देने के लिए भारत सरकार के पास समय ही नहीं है इसलिए उन्होंने यह फैसला लिया है|

गौरतलब है कि भारत सरकार ने एंटीगुआ सरकार से कहा था कि मेहुल चोकसी को औपचारिक तौर पर गिरफ्तार किया जाए, उसका पासपोर्ट रद्द किया जाए और उसे भारत भेजा जाए| अब इसे एंटीगुआ प्रशासन ने नकार दिया है|
एंटीगुआ सरकार ने यह बताया कि मेहुल चोकसी को एंटीगुआ के प्रावधानों के अनुसार नागरिकता दी गई है| एंटीगुआ का कानून उसकी हिफाज़त करता है, इसलिए उसका प्रत्यर्पण नहीं किया जा सकता है और न ही उसे गिरफ्तार किया जा सकता है| भारत के साथ कोई सीधी प्रत्यर्पण संधि नहीं है और एंटीगुआ राष्ट्रमंडल देशों के नियम के तहत भारत का दावा नहीं मानता है|

विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, भारत की ओर से तीन अगस्त को एंटीगुआ को चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए एक अनुरोध-पत्र सौंपा था| चोकसी ने इस द्वीपीय देश की नागरिकता प्राप्त कर ली है| इस संबंध में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने संवाददाताओं के सवालों का उत्तर देते हुए कहा था कि हमें बताया गया है कि वे (एंटीगुआ के प्राधिकारी) अनुरोध (प्रत्यर्पण) पर गौर कर रहे हैं|  उन्होंने कहा कि यह कहना अभी जल्दबाजी होगी कि भारत के अनुरोध पर एंटीगुआ के प्राधिकारियों की क्या प्रतिक्रिया होगी|

Share.