मराठा मोर्चा सदस्यों ने मुंबई बंद वापस लिया

0

आरक्षण की मांग कर रहे मराठा मोर्चा के सदस्यों ने मुंबई बंद वापस ले लिया है| वहीं यह भी कहा जा रहा है कि ठाणे और नवी मुंबई में बंद जारी रहेगा| मुंबई बंद के दौरान कई हिंसक घटनाएं हुईं|इस दौरान ठाणे के वेगल एस्टेट इलाके में नगर परिवहन की एक बस में तोड़फोड़ की गई| गोखले रोड पर खुली दुकानों के जबरन शटर गिराकर हंगामा किया गया, लोगों को धमकाया गया| वहीं मंगलवार को जहर खाने वाले किसान प्रदर्शनकारी की अस्पताल में मौत हो गई जिससे बाद प्रदर्शनकारी और हिंसक हो गए|

4 लोगों की जान ले चुका यह आंदोलन

इस आंदोलन ने एक पुलिस कॉन्स्टेबल सहित 3 लोगों की जान लील ली है| बंद का एलान कर चुके मराठा मोर्चा के सदस्यों का कहना है कि हम शांति से आंदोलन कर रहे हैं लेकिन कुछ शरारती तत्व हिंसक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं| हमारे प्रदर्शन की वजह से पुलिस और सरकार को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए, इस बात का हम ध्यान रख रहे हैं| वहीं, जबरन दुकान का शटर और सब्जी का ठेला गिराए जाने पर दो गुटों के बीच झड़प हो गई, जिसे पुलिस ने शांत कराया|

5 लोगों ने की आत्महत्या की कोशिश

आंदोलन में शामिल पांच लोग आत्महत्या की कोशिश कर चुके हैं| बीड़ में अपनी मांगों के साथ तहसीलदार के पास पहुंचे शिष्टमंडल के दो सदस्यों ने छत से कूदकर आत्महत्या का प्रयास किया, जिन्हें बचा लिया गया| लातूर के शिवाजी चौक पर एक मराठा युवक ने खुद पर पेट्रोल छिड़क जान देने की कोशिश की,  औरंगाबाद ग्रामीण इलाके में किसान जगन्नाथ सोनावणे ने जहर पी लिया एवं किसान जयेंद्र सोनवणे (28) ने शिवना नदी के पास स्थित कुएं में कूदकर जान देने की कोशिश की|

वहीं केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने मराठियों के आरक्षण की मांग का समर्थन किया है| उन्होंने शांतिपूर्वक प्रदर्शन की अपील करते हुए कहा कि हम इसे एनडीए के साथ उठाएंगे|

मराठा मोर्चा के सदस्यों का कहना है कि मुंबई बंद के दौरान हिंसा नहीं होगी| इसके बाद भी मुंबई में सुबह कई जगहों पर बेस्ट बसों पर पथराव किया गया, जिससे कई लोग घायल हो गए| वहीं आरक्षण की मांग को लेकर कई जगह आज हिंसक प्रदर्शन किया जा रहा है| प्रदर्शन में पथराव के कारण एक कांस्टेबल की मौत हो गई जबकि नौ लोग जख्मी हो गए|

आरक्षण की मांग का सबसे ज्यादा असर औरंगाबाद और आसपास के जिलों में दिख रहा है| वहां कई गाड़ियों को भी फूंक दिया गया है| औरंगाबाद की पुलिस अधीक्षक आरती सिंह ने बताया कि भीड़ को संभालने मौजूद पुलिसकर्मियों ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे| कल मार्च के दौरान एक प्रदर्शनकारी की भी मौत हो गई| लगातार बढ़ रही मौत के बाद मराठा मोर्चा दल के सदस्यों ने अपने कार्यकर्ताओं से अपील की है कि प्रदर्शन शांति से किया जाए| इसके साथ ही युवकों से आत्महत्या न करने की अपील भी की गई है|

जिस नदी में कूदकर युवक ने आंदोलन के दौरान आत्महत्या की थी, वहां तैनात एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई| कांस्टेबल की मौत के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है| पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतज़ार किया जा रहा है| उसी स्थल पर तैनात अन्य पुलिसकर्मी पथराव में जख्मी हो गए|

Share.