गृह मंत्रालय: सबरीमाला में माओवादी महिलाओं को भड़का रहे हैं

0

सबरीमाला मंदिर का विवाद बढ़ते ही जा रहा है| इस विवाद के बीच गृहमंत्रालय की चिट्ठी सामने आई है जो केरल सरकार को लिखी गई थी| इसमें मंत्रालय ने कहा है कि माओवादी महिलाओं को भड़का रहे हैं| शुक्रवार को मंदिर में हुए बवाल के बाद वहां जगह-जगह पर पुलिस तैनात है| अब जो चिट्ठी सामने आई है उससे यह तो साफ़ होता है कि सरकार के पास पहले से ही ऐसी जानकारी थी कि ऐसा कुछ हो सकता है| फिर भी उन्होंने सावधानी नहीं बरती|

जानकारी के अनुसार, यह चिट्ठी 16 अक्टूबर को केन्द्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से केरल और तमिलनाड़ु के मुख्य सचिव और दोनों राज्यों के डीजीपी को लिखी गई थी| इसमें बताया गया है कि सबरीमला मंदिर में एंट्री के लिए महिलाओं को नक्सली ग्रुप की शह मिली हुई है| माओवादी और उग्र वामपंथी सबरीमाला में महिलाओं को प्रवेश के लिए भड़का रहे हैं|

चिट्ठी द्वारा पहले ही राज्य सरकार को अलर्ट किया गया था लेकिन महिलाओं के दर्शन के लिए अभी तक कोई भी तैयारी नहीं की गई है| उसमे यह भी बताया गया है कि हिन्दू संगठन बुधवार को विरोध प्रदर्शन का प्लान कर रहे हैं| जैसा चिठ्ठी में बताया गया हुआ भी कुछ वैसा ही सबरीमाला में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की इजाजत देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बुधवार को पहली बार भगवान अय्यप्पा मंदिर के दरवाजे तो खुले लेकिन ‘प्रतिबंधित’ उम्र समूह वाली कोई भी महिला दर्शन करने में सक्षम नहीं हो पाई| यहां प्रदर्शनकारियों और पुलिस बल के बीच हिंसक झड़प भी हुई|

मंदिर के पंडित का कहना है कि वे किसी भी हालत में 10-50 साल की महिलाओं को मंदिर में नहीं घुसने देंगे। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हम सबरीमाला की सुरक्षा कर रहे हैं। वहीं, सबरीमाला मंदिर के मुख्य पुजारी कंदारारू राजीवारू हालात से परेशान हैं| मंडित के ट्रस्टियों का कहना है कि यदि मंदिर में महिलाओं ने प्रवेश किया, तो वो मंदिर में ताला लगाकर चाबियां सौंप देंगे| मैं श्रद्धालुओं के साथ खड़ा हूं, इसके अलावा मेरे पास कोई और चारा नहीं है|

वहीं आईजी श्रीजीत का कहना है कि,  ‘यह एक अनुष्ठान आपदा है, हम लोग उन्हें सुरक्षा के बीच यहां तक ले आए| लेकिन दर्शन पुजारियों के सहमति के बगैर नहीं हो सकते| हम सभी महिलाओं को सारी सुरक्षा देने के लिए तैयार हैं|’

सबरीमाला विवाद के बीच मंदिर के पुजारी ने कहा कुछ ऐसा कि….

सबरीमाला मंदिर में क्या मिलेगा महिलाओं को प्रवेश? घमासान जारी…

सबरीमाला मंदिर : मासिक धर्म नहीं बल्कि महिलाओं पर रोक की यह है वजह

Share.