महात्मा गांधी की पौत्रवधू दिल्ली छोड़ गई…

0

महात्मा गांधी की पौत्रवधू देश में बढ़ रही हिंसा और आतंक से परेशान हैं| वे दिल्ली छोड़कर सूरत चली गई हैं| पिछले एक साल से गुमनामी की ज़िन्दगी जी रहीं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पौत्रवधू डॉ. शिवालक्ष्मी को दिल्ली का माहौल पसंद नहीं आया|

पिछले साल डॉ. शिवालक्ष्मी कादीपुर में हरपाल राणा के यहां रहने आई थीं| वर्ष 2016 में पति कनुभाई गांधी की मौत के बाद 95 वर्षीय डॉ. शिवालक्ष्मी अकेली हो गई थीं| जिस आश्रम में उनके पति की मृत्यु हुई थी अब वह वहीं रहेंगी|

सूरत जाते समय दिल्ली एयरपोर्ट पर डॉ. शिवालक्ष्मी गांधी ने कहा कि दिल्ली का माहौल ठीक नहीं है| मैं यहां नहीं रह सकती| मेरा भारत ऐसा नहीं हो सकता| अब सूरत जाकर बापू के कार्यों को ही आगे बढ़ाऊंगी| राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पौत्र कनुभाई गांधी और पौत्रवधू डॉ. शिवालक्ष्मी गांधी के पास दो साल पहले रहने के लिए छत भी नहीं थी| कनुभाई गांधी महात्मा गांधी के तीसरे बेटे रामदास की इकलौती संतान थे| जब उनके बारे में कादीपुर निवासी हरपालसिंह राणा को पता चला तो वे डॉ. शिवालक्ष्मी गांधी को अपने साथ अपने घर ले गए|

गौरतलब है कि कनुभाई ने अमरीका में पढ़ाई की| इसके बाद वे नासा के वैज्ञानिक रहे फिर वहीं प्रोफेसर बने| उनकी कोई संतान नहीं थी इसलिए भारत लौट आए| अमरीका से लौटकर दंपति सूरत में बस गए| वहां साबरमती आश्रम में डेढ़ साल रहने के बाद दिल्ली आ गए| डॉ.शिवालक्ष्मी के पिता इंग्लैंड में बड़े कारोबारी थे| उन्होंने बताया कि कई बार मन किया कि भारत छोड़कर इंग्लैंड वापस चली जाएं, लेकिन वहां भी कोई ठिकाना नहीं है इसलिए अब सूरत में ही रहूंगी|

यह खबर भी पढ़े – पीएम के ट्वीट से क्यों उड़े टॉपर के होश?

यह खबर भी पढ़े – वायुसेना का मिग-21 फाइटर जेट क्रैश

यह खबर भी पढ़े – जजों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ा सकती है सरकार

Share.