पाक में खत्म हो रहीं बापू की स्मृतियां

0

पाकिस्तान में महात्मा गांधी से जुड़ी अधिकांश स्मृतियां समाप्त हो चुकी हैं(Memories Associated With Mahatma Gandhi Have Ended In Pakistan)। अब उनसे जुड़े बहुत कम ही ऐसे प्रतीक बचे हैं, जो आज़ादी से पहले की स्मृतियों को ताज़ा करते हैं। इन्हीं में से एक कराची में महात्मा गांधी द्वारा बनवाई गई इंडियन मर्चेंट एसोसिएशन की आधारशिला है। हाल ही में इस आधारशिला को ढंक दिया है।

‘द इक्वेटर’ लाइन पत्रिका के हालिया प्रकाशित संस्करण में इस बारे में विस्तार से बताया गया है। इस आधारशिला की प्रशस्ति में लिखा है कि, कराची इंडियन मर्चेंट एसोसिएशन। इसकी आधारशिला महात्मा गांधी द्वारा 8 जुलाई 1934 को रखी गई थी। पाकिस्तान में महिला स्वास्थ्य पर राष्ट्रीय फोरम के संस्थापक डॉ. शेरशाह सैयद ने बापू की विशाल प्रतिमा का जिक्र करते हुए लिखा है कि, किसी समय महात्मा गांधी की प्रतिमा को हटा दिया गया। वह ज्यादा दिन तक वहां नहीं रही।

उन्होंने बताया कि महात्मा गांधी की एक अन्य प्रतिमा कंटोनमेंट रोड पर स्थित थी। उसे 1950 में हटा दिया गया। सैयद के मुताबिक, कराची में म्यूनिसिपल पार्क को गांधी गार्डन के रूप में जाना जाता था, जिसे सामाजिक सभाओं के लिए उपयोग किया जाता था। यह जगह अपने नाम और स्थान से समाप्त हो गई।

कराची के जूलॉजिकल गार्डन को गांधी गार्डन के नाम से भी जाना जाता था। अब इसका आधिकारिक नाम कराची जूलॉजिकल गार्डन हो गया है। मैगज़ीन का यह संस्करण महात्मा गांधी को समर्पित है। इसमें चिपको आंदोलन के प्रणेता और गांधीवादी सुंदरलाल बहुगुणा और गांधी की पौत्री तारा गांधी भट्टाचार्य के भी साक्षात्कार हैं।

‘शाह’ को भेजा पाकिस्तान का टिकट

गरीब पाकिस्तान, गधों में अमीर

पाकिस्तान ने फिर दिया धोखा

Share.