संत ने किया विरोध, शिव ने उतारी आरती

0

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान हमेशा से ही संत-महंत के बीच समन्वय स्थापित करने की कोशिशों में रहते हैं।  किसी ना किसी तरह से शिव और उनके गण यानी प्रदेश के मंत्री संतों को साथ लेकर चलने की कवायदें करते रहते हैं। ऐसा ही एक नज़ारा गुरुवार को देखने को मिला।  उज्जैन के संत और अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी महाराज ने जब उज्जैन में हो रहे अतिक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री से मुलाकात की तो उन्होंने उनकी आरती उतार दी।

उज्जैन में लगातार बढ़ते अतिक्रमण को लेकर अखाडा परिषद् के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने विरोध किया था।  इस मुद्दे पर उन्होंने प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। महंत ने  भू-माफियाओं को खुली चेतावनी देते हुए कहा था कि यदि उन्होंने सिंहस्थ मेला क्षेत्र में कॉलोनी काटीं तो उनकी खैर नहीं। उन्होंने प्रशासन के सामने विरोध करते हुए कहा था कि शहर के कुछ लोग नहीं चाहते कि शहर में सिंहस्थ हो। उन्होंने कहा था कि बिल्डर लोग अपने स्वार्थ के लिए गरीब लोगों के साथ साथ शहर की धार्मिक धरोहर के साथ भी खिलवाड़ करते हैं।

गुरुवार शाम जब इसी शिकायत को लेकर महंत नरेंद्र गिरी मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मिलने पहुंचे तो मुख्यमंत्री ने अपने बंगले पर उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने शॉल-श्रीफल भेंट करते हुए संत की आरती उतारी।  इस दौरान संत की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री ने जल्द जी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन भी दिया।

संत नरेंद्र गिरि मंदिर और मेला परिसर में बढ़ते अतिक्रमण को लेकर कई बार शिकायत भी कर चुके हैं, लेकिन प्रशासन ने कोई कदम नहीं उठाया, इसके बाद अब संत विरोध पर उतर आए हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग उज्जैन में सिंहस्थ नहीं होने देना चाहते हैं, इसीलिए वे मेले की जमीन पर कब्ज़ा कर रहे हैं।

गुरुवार को उन्होंने कलेक्टर मनीषसिंह से मुलाकात करके अतिक्रमण की शिकायत की थी।  इस शिकायत में उन्होंने निगम के एक अधिकारी पर भी आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि निगम के एक अधिकारी ने उज्जैन के नीलगंगा पड़ाव पर अवैध कब्ज़ा कर लिया है। इसके अलावा सिंहस्थ मेला क्षेत्र में कई स्थानों पर कब्ज़े हैं। कुछ लोगों ने पक्के निर्माण कर लिए हैं और भू-माफियाओं द्वारा अवैध कॉलोनी काटी जा रही है। धीरे-धीरे इस क्षेत्र में मेले और बड़े धार्मिक आयोजनों के लिए जमीन ख़त्म हो जाएगी।

Share.