मप्र उपचुनाव: चुनावी सभा में 100 लोगों वाला नियम खत्म

0

पूरे देश के साथ मध्य प्रदेश भी कोरोना की जंग लड़ रहा है, लेकिन सियासत वालो को इससे कोई लेना-देना नहीं है .वे आगामी उपचुनाव की तैयारी मे इतने जोर शोर से लगे हैं कि वे कोरोनावायरस लेकर सारे नियम ताक पर रखते नजर आ रहे हैं. सरकार ने एक नया फैसला लेते हुए भीड़ बढ़ाने की कवायद में कोरोनावायरस को लेकर सभा का जो बंधन था वह तोड़ दिया है.

हाथरस:सत्य-असत्य तय करती मीडिया, पुलिस और सरकार


अब मध्य प्रदेश में चुनाव प्रचार रैलियों में 100 लोगों का कोई नियम नहीं रहेगा. मतलब अब सौ से अधिक की भीड जमा की जा सकेगी. इसका सीधा सीधा मतलब है कि नेता मध्य प्रदेश के नेताओं को प्रदेश की जनता की की कोई चिंता नहीं है. उन्हें अपनी वोट की राजनीति करनी है इसलिए उन्होंने आनन-फानन में अपने हिसाब से नए नियम बना लिए हैं .गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में आगामी दिनों में उप चुनाव होने जा रहे हैं जिसे लेकर सियासत गरमा गई है.


कमलनाथ की कांग्रेस सरकार को गिराने में पूर्व सांसद और फिलहाल बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिराज सिंधिया का मुख्य रोल था. उनके साथ 27 विधायक भी बीजेपी में शामिल हुए नतीजतन कमलनाथ सरकार गिर गई और अंततः प्रदेश में उपचुनाव हो रहे हैं ,.

Share.