सांसदों पर बरस पड़ीं महाजन

1

संसद के शीतकालीन सत्र का आज छठा दिन(Parliament Winter Session Day 6) था। शीतकालीन सत्र का छठा दिन भी हंगामे की भेंट चढ़ गया। हंगामे की वजह से दोनों सदनों की कार्रवाई ठप रही। दोनों ही सदन में राफेल मुद्दे से लेकर कावेरी बांध तक के मुद्दों पर हंगामा होता रहा। इस हंगामे से लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन गुस्सा हो गईं और सदन की कार्रवाई दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

एक बार फिर दोपहर 12 बजे सदन की कार्रवाई शुरू की गई। कार्रवाई शुरू होने के बाद सभी दल एक बार फिर आपस में भिड़ गए। बीजेपी, कांग्रेस, अन्नाद्रमुक, टीडीपी दलों के सदस्य अपने-अपने मुद्दों के लिए शोर मचाने लगे। सभी दल के सदस्य मुद्दों की मांग करते-करते अध्यक्ष के आसन के करीब पहुंच गए। इसके बाद सभी सदस्य अध्यक्ष के आसपास खड़े होकर नारेबाजी करने लगे।

इस हंगामे से अध्यक्ष सुमित्रा महाजन का पारा चढ़ गया और उन्होंने सभी सांसदों को जमकर फटकार लगाई। ‘ताई’ के नाम से प्रसिद्ध सुमित्रा महाजन ने कहा कि सदन में हंगामे को लेकर लोग पूछते हैं कि आपकी संसद में यह क्या हो रहा है? अब तो हमें स्कूलों के बच्चे भी मैसेज करने लगे हैं। स्कूली बच्चे कहते हैं कि हमारे स्कूल संसद से बेहतर चलते हैं। क्या अब हम स्कूली बच्चों से भी गए-गुजरे हो गए हैं?

इसके बाद सांसदों को समझाते हुए ‘ताई’ ने कहा,””मैं समझ सकती हूं कि यह वर्तमान लोकसभा का आखिरी पूर्ण सत्र है और आप लोगों के अपने अपने मुद्दे हैं। संसद चर्चा के लिए है और सरकार चर्चा के लिए तैयार है। लेकिन शोरगुल सही तरीका नहीं है। यदि आपके मुद्दे हैं तो मैं खुद सरकार से कहूंगी कि चर्चा करवाई जाए।““

शीतकालीन सत्र : हंगामे की भेंट चढ़ा शून्यकाल ?

शीतकालीन सत्र में कांग्रेस का राफेल आलाप

शीतकालीन सत्र में इन मुद्दों पर होगी चर्चा

Share.